2019 में बैलट से लोकसभा चुनाव हो तो नहीं जीत पाएगी भाजपा : मायावती

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के प्रदर्शन से बसपा अध्यक्ष मायावती खुश हैं, लेकिन संतुष्ट नहीं।...

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के प्रदर्शन से बसपा अध्यक्ष मायावती खुश हैं, लेकिन संतुष्ट नहीं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के प्रदर्शन से बसपा अध्यक्ष मायावती खुश तो हैं, लेकिन संतुष्ट नहीं। मायावती ने कहा है कि यदि 2019 में मतपत्र से लोकसभा चुनाव हो तो भाजपा नहीं जीत पाएगी।

बौद्ध भिक्षु प्रज्ञानंद को शनिवार को श्रद्धांजलि देने पहुंची बसपा अध्यक्ष मायावती ने निकाय चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन पर खुशी जाहिर की और कहा,

"दलित समुदाय के अलावा समाज के सवर्ण और पिछड़े वर्ग ने भी बसपा को समर्थन दिया और यह पार्टी के लिए अच्छा संकेत है। साथ ही मुस्लिमों का समर्थन भी हमें हासिल है।"

उन्होंने भाजपा पर वार करते हुए आरोप लगाया कि भाजपा ने निकाय चुनाव में सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल किया, नहीं तो बसपा के और उम्मीदवार मेयर पद पर जीत हासिल करते।

मायावती ने कहा कि चुनावी प्रक्रिया को बाधित करने की भाजपा की तमाम कोशिशों के बावजूद बसपा नंबर दो पर रही।मायावती ने भाजपा को चुनौती देते हुए कहा,

"यदि भाजपा का लोकतंत्र में भरोसा है तो उसे 2019 के चुनाव में ईवीएम को हटाकर मतपत्र से चुनाव कराना चाहिए। मैं दावा करती हूं कि मतपत्र का इस्तेमाल किया गया तो भाजपा सत्ता में नहीं आएगी।"

उन्होंने कहा कि 2014 में ईवीम में गड़बड़ी कर भाजपा को केंद्र की सत्ता मिली थी। प्रदेश विधानसभा चुनाव में 2017 में पूर्ण बहुमत से बसपा की सरकार बननी थी, लेकिन ईवीएम में छेड़खानी कर दी गई।

अखिलेश यादव की पार्टी सपा के बारे में किए गए सवाल पर मायावती ने कहा,

"हम तो अपनी पार्टी की बात करते हैं। सपा की बात अखिलेश यादव से पूछो।"

सपा से गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कहा,

"हम सभी को साथ लेकर चल रहे हैं। मुस्लिम, पिछड़े और दलित हमारे साथ ही हैं, इससे बड़ा गठबंधन और क्या हो सकता है।"

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।