प्रकाश अंबेडकर ने चेताया, ‘धर्म की राजनीति से पैदा हो सकता है हाफिज़’

देश में धर्म के नाम पर राजनीति क्यों ? प्रकाश अंबेडकर की राजनेताओं को चेतावनी ‘धर्म की राजनीति से पैदा हो सकता है हाफिज़’ बीजेपी ने दलितों की आवाज को दबाया...

Politics of Religion Can Create Hafiz Saeeds Among Hindus, Says Prakash Ambedkar

देश में धर्म के नाम पर राजनीति क्यों ?

प्रकाश अंबेडकर की राजनेताओं को चेतावनी

धर्म की राजनीति से पैदा हो सकता है हाफिज़

बीजेपी ने दलितों की आवाज को दबाया

धर्म के नाम पर राजनीति करना तो देश में सियासतदां की आदत सी बन गई है...तभी तो जहां-जहां जातीय हिंसा की चिंगारी भड़कती है...वहां-वहां नेता अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने पहुंच जाते हैं...चाहे उत्तर प्रदेश हो या फिर महाराष्ट्र...हर जगह नेता हिंसा की आग में सियासी भविष्य की तलाश करते हैं...देश में धर्म के नाम पर हो रही इस राजनीति पर संविधान निर्माता डॉ. बीआर अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर ने चेतावनी दी है... प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि...धर्म की राजनीति जब बेकाबू होती है तो वह बेलगाम हो जाती है. इसलिए इसे रोका जाना जरूरी है.

महाराष्ट्र में फैली हिंसा की चिंगारी को आग में तब्दील कर किस कदर राजनीति बिसात बिछाई गई ये सबने देखा...लोग एक दूसरे पर हमला कर रहे थे...और राजनेता तू-तू मैं-मैं में लगे थे...ये भी सबने देखा...हिंसा की आग को रोकने की बजाय नेता कैसे एक दूसरे पर ही आरोप प्रत्यारोप मढ़ खुद को पीड़ितों का हितैषी साबित कर रहे थे...ये भी सबने देखा...

धर्म के नाम पर अपनी सियासत चमकाने वाले नेताओं को आज डॉ. बीआर अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर ने आगाह किया है...

प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि धर्म की राजनीति जब बेकाबू होती है तो वह बेलगाम हो जाती है. इसलिए इसे रोका जाना जरूरी है.

प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि...धर्म की राजनीति को नहीं रोका गया तो यह हिंदुओं के बीच 'हाफिज सईद' को पैदा कर सकता है...

अंबेडकर ने लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज सईद का जिक्र करते हुए कहा कि धर्म के नाम पर जो हो रहा है, यह हिटलरशाही की तरह अस्तित्व में आ रहा है...

प्रकाश अंबेडकर ने भी बीजेपी पर दलितों की आवाज को दबाने का आरोप लगाया...

प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि... 'यह सरकार दोबारा आई तो हम जो यह बात करते हैं, यह बात करने का अधिकार भी छीन लिया जाएगा. इसलिए अपने अधिकार बरकरार रखने और संविधान की रक्षा के लिये हमें लड़ना होगा...

 

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>