जुमलों के दम पर मोदी सरकार के तीन साल पूरे, झूठे बना रहे हैं खुशी: पैंथर्स

कश्मीर से कन्याकुमारी तक आज भारत जल रहा है और मोदी सरकार मन की बात कर विदेशों में घूम रही है व करोड़ो रुपये विज्ञापनों में खर्च कर रहे हैं।...

  नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश नेशनल पैंथर्स पार्टी के वरिष्ठ नेता राजीव जौली खोसला ने जुमलों वाली सरकार के तीन साल पूरे होने पर जनता को याद दिलाया कि मोदी सरकार बनने से पहले जनता के सामने जुमले ही जुमले पेश किये, जैसे सभी भारत के नागरिकों के पास 15 लाख रुपये बैंक में आना व भारतवर्ष की अनेकों समस्याओं का समाधान सरकार आने के बाद चुटकी बजाते ही समाधान करना, जैसे जम्मू-कश्मीर की समस्या, कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को पुनः बसाना व बाप-बेटी और बाप-बेटे के शासन से जनता को निजात दिलाना। मगर दिल्ली की मार से मोदी को बाप-बेटी के साथ समझौता करना पड़ा व पूरे भारत की जनता को धोखा दिया। भारत के किसानों को कर्ज माफ करना व स्कूल में पढ़ाने वाले टीचरों को दुख-दर्द समझना और भारत की जनता का इलाज कर रहे अस्पताल में डाक्टरों को सुधारना मगर ऐसा कुछ भी नहीं, कश्मीर से कन्याकुमारी तक आज भारत जल रहा है और मोदी सरकार मन की बात कर विदेशों में घूम रही है व करोड़ो रुपये विज्ञापनों में खर्च कर रहे हैं। कम से कम 70 सालों में पहली ऐसी सरकार है जिसने यह माना है कि हमारी कही गयी बातें जुमले हैं, बाकि किसी सरकार ने जुमले वाली बात नहीं कही। आज दिल्ली में एमसीडी सरकार पुनः चुनकर आयी, नए चेहरों के दम पर मगर बड़े अफसोस की बात है कि चेहरे तो नए हैं मगर इनके पीछे सोच वाले मुखटे तो पुराने ही हैं।

श्री खोसला ने कहा कि दिल्ली की जनता आज त्राहि-त्राहि कर रही है, मगर भाजपा वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री जो पहले भी काम नहीं करना चाहता था और अब उसे केन्द्र सरकार द्वारा ज्यादा प्रताड़ित किया जा रहा है उसी के विधायकों को किसी न किसी प्रकार का लालच देकर इसमें पिस तो दिल्ली की जनता रही है और लगता है आगे भी पिसती रहेगी।

पैंथर्स पार्टी जनता को सोचने के लिए एक मौका और देती है कि आने वाले 19 के चुनावों में जुमले वाले चाहिए या काम करने वाले।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।