त्रिपुरा में माकपा समर्थकों पर हमला संघ-भाजपा के फासीवादी चरित्र का सबूत

लेनिन की मूर्ति को ध्वस्त किए जाने पर पार्टी ने कहा है कि इससे मेहनतकशों की विचारधारा को ख़त्म नहीं किया जा सकता....

रायपुर। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने त्रिपुरा में पार्टी कार्यकर्ताओं, समर्थकों और कार्यालयों तथा मेहनतकशों की विचारधारा के प्रतीकों पर संघ-भाजपा के हमलों की कड़ी निंदा की है और इसे उनकी फासीवादी मानसिकता और गैर-लोकतांत्रिक आचरण का सबूत बताया है. लेनिन की मूर्ति को ध्वस्त किए जाने पर पार्टी ने कहा है कि इससे मेहनतकशों की विचारधारा को ख़त्म नहीं किया जा सकता.

आज यहां जारी एक बयान में माकपा राज्य सचिवमंडल ने कहा कि त्रिपुरा चुनाव में जीत के उन्माद से ग्रस्त संघ-भाजपा ने पिछले तीन दिनों में ही वामपंथ समर्थकों के 1539 घरों और 134 पार्टी कार्यालयों पर हमले किए हैं, 196 घरों में आग लगाई है, 208 पार्टी कार्यालयों पर जबरन कब्जे किए हैं. इन हमलों में 514 पार्टी समर्थक घायल हुए हैं.

छत्तीसगढ़ माकपा ने इन हमलों की विस्तृत सूची तथा फोटोग्राफ्स भी मीडिया की जानकारी के लिए अपने बयान के साथ संलग्न की है, जिसे माकपा पोलिट ब्यूरो ने आज ही प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन के साथ सौंपा है तथा स्थिति को बिगड़ने से बचाने के लिए उनके त्वरित हस्तक्षेप की मांग की है.

माकपा ने कहा है कि इन हमलों से स्पष्ट है कि संघ-भाजपा को देश के लोकतंत्र और संवैधानिक मूल्यों पर जरा भी विश्वास नहीं है और वह चुनाव प्रक्रिया का उपयोग अपने वैचारिक विरोधियों के खात्मे और 'हिन्दू-राष्ट्र' की अपनी फासीवादी परियोजना को आगे बढ़ाने के लिए ही करना चाहती है. लेनिन की मूर्ति को तोड़ने को संघ-भाजपा के घोर कम्युनिस्ट विरोधी और गैर-जनतांत्रिक करतूत बताते हुए पार्टी ने कहा है कि अब भगतसिंह को भी बख्शा नहीं जाएगा, जो कि अपने अंतिम समय में लेनिन को ही पढ़ रहे थे और सांप्रदायिक नफ़रत फैलाने वालों के खिलाफ थे.

माकपा की छत्तीसगढ़ ईकाई ने अपनी सभी जिला समितियों से संघ-भाजपा के इन फासीवादी हमलों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन आयोजित करने का आह्वान किया है.,

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।