प्रेस काउंसिल की तर्ज पर मीडिया काउंसिल की उठी मांग

पत्रकार सुरक्षा कानून पर मदद करूंगा- सरयू राय मीडिया को आत्मविश्लेषण करना चाहिए- सीपी सिंह ...

अतिथि लेखक

नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स का दो दिवसीय सम्मेलन समाप्त

पत्रकार सुरक्षा कानून पर मदद करूंगा- सरयू राय

मीडिया को आत्मविश्लेषण करना चाहिए- सीपी सिंह

विशद कुमार

रांची: राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने कहा है कि वह राज्य में पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की दिशा में हर संभव मदद करेंगे।

श्री राय आज नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के दो दिवसीय सम्मेलन के समापन समारोह के मुख्य अतिथि पद से बोल रहे थे। होटवार स्थित डॉ रामदयाल मुंडा सभागार में आयोजित इस सम्मेलन के समापन समारोह में उन्होंने कहा कि देश में बहुत तेजी से बदलाव हो रहा है। ऐसे में मीडिया की भूमिका और भी बढ़ गयी है। उन्होंने यूनियन द्वारा पूर्व से चलाये गये पत्रकार सुरक्षा कानून की जानकारी लेने तथा महाराष्ट्र में इसके लागू होने के बाद झारखंड में भी पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की दिशा में जोरदार पहल करने का आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि बनने के बाद इसे सख्ती से पालन भी कराया जाएगा। उन्होंने ग्रामीण इलाके में कार्यरत पत्रकारों की स्थिति पर चिंता जतायी। और उन्हें भी सामाजिक सुरक्षा के तहत लाभ दिलाने की बातें कहीं। उन्होंने पत्थलगड़ी को लेकर उत्पन्न विवाद में मीडिया से अहम भूमिका निभाने की अपील की।

झारखंड के मंत्री सीपी सिंह ने देश और समाज हित में मीडिया की भूमिका को सराहा। साथ ही कहा कि मीडिया को भी अपना काम ईमानदारी से करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी को अपने किये की सजा मिलती है। यह कहकर उन्होंने चारा घोटाला के मामले में रांची के होटवार जेल में बंद लालू यादव पर चुटकी भी ली। मौके पर मंचस्थ एनयूजे के पदाधिकारियों में आानंद राणा, रासबिहारी, प्रज्ञानंद चौधरी, भूपेन गोस्वामी, सीमा किरण, सैयद जुनैद, रतन दीक्षित, शिव कुमार अग्रवाल, प्रताप सिंह समेत रांची जिले के सैकड़ों पत्रकार मौजूद थे। सभा में इनके अलावा अनेक वरिष्ठ पत्रकार और विभिन्न राज्यों से आये सम्पादक और ब्यूरो प्रमुख भी उपस्थित थे।

नई कार्यकारिणी ने जिम्मेदारी संभाली

पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ पत्रकार प्रज्ञानंद चौधरी के नेतृत्व में नई कार्यकारिणी ने अपनी जिम्मेदारी आज से संभाल ली। झारखंड के शिव कुमार अग्रवाल ही यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव बनाये गये हैं। इस कमेटी में अन्य राज्यों को भी नये सिरे से जिम्मेदारी देने का फैसला किया गया तथा शीघ्र ही वार्षिक कार्ययोजना के साथ राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आयोजित करने का प्रस्ताव पारित किया गया।

आम सभा में सुरक्षा कानून और मीडिया काउंसिल पर चर्चा

रविवार को आयोजित यूनियन की आम सभा में दिवंगत पत्रकारों को श्रद्धांजलि दी गयी। शनिवार को रांची के वरिष्ठ पत्रकार रामकुमार जी के निधन को अपूरणीय क्षति बताते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए भगवान से प्रार्थना की गयी। इसी क्रम में यूनियन ने मीडिया के विस्तार पर ध्यान देते हुए प्रेस काउंसिल की तर्ज पर मीडिया काउंसिल की अपनी मांग को और मजबूती से रखने की प्रतिबद्धता दोहरायी ताकि इलेक्ट्रानिक मीडिया में कार्यरत लोगों को भी काउंसिल की मदद मिल सके।

यूनियन ने अपने प्रस्ताव में स्पष्ट किया है कि वह मजीठिया आयोग की सिफारिश के अनुरूप वेतन दिलाने, स्वास्थ्य बीमा योजना आदि लागू कराने के लिए सरकार से लगातार बातचीत कर अपनी मांगों के समर्थन में लड़ती रहेगी। इस मौके पर सभी राज्यों की तरफ से उनके वार्षिक प्रतिवेदन भी प्रस्तुत किये गये।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।