सरकार एयर इंडिया बेचने पर आमादा, आरटीआई से हुआ खुलासा मंत्रालय को निजीकरण की जानकारी नहीं    

नई दिल्ली, 18 जुलाई। एयर इंडिया, जिसके निजीकरण के सम्बन्ध में पिछले दिनों लगातार चर्चा चल रही है, के सम्बन्ध में नागर विमानन मंत्रालय को कोई जानकारी नहीं है.

आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर ने मंत्रालय से एयर इंडिया के निजीकरण के सम्बन्ध में उसके तथा अन्य कार्यालयों में हुए पत्राचार सहित निजीकरण प्रस्ताव विषयक समस्त अभिलेख देने का अनुरोध किया था.

 मंत्रालय के अनु सचिव चन्द्र किशोर शुक्ल ने 12 जुलाई 2017 के अपने पत्र द्वारा बताया कि इस सम्बन्ध में उनके कार्यालय में कोई अभिलेख नहीं हैं, अतः शून्य सूचना समझी जाये.

 इससे पूर्व एयर इंडिया के एजीएम (ओए) एस के बजाज ने भी आरटीआई में बताया था कि एयर इंडिया ने किसी प्रस्तावित निजीकरण के सम्बन्ध में किसी भी कार्यालय से कोई पत्राचार नहीं किया है और न ही उसे इस सम्बन्ध में कोई भी पत्र प्राप्त हुआ है. अतः उसे प्रस्तावित निजीकरण के सम्बन्ध में कोई सूचना नहीं है.

 नूतन के अनुसार यह आश्चर्यजनक है कि सम्बंधित मंत्रालय और कंपनी दोनों को इस प्रस्तावित निजीकरण की कोई जानकारी नहीं है.  

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।