कांग्रेस का जोरदार हमला, मोदी ने शहीदों और शहादत का अपमान किया, देश के चूल्हे शोक में बुझे थे और मोदी फ़िल्म की शूटिंग में व्यस्त थे

मोदी सरकार के 56 महीनों में अकेले जम्मू-कश्मीर में हमारे 488 जवान शहीद हुए हैं, ऐसा क्यों?...

नई दिल्ली, 21 फरवरी। पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama terror attack) पर नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi government) के रुख पर कांग्रेस ने ज़ोरदार हमला बोला है। कांग्रेस (Congress) ने कहा है कि सीआरपीएफ़ जवानों पर हमले (Attack on CRPF jawans) के बाद प्रधानमंत्री मोदी जिम कॉर्बेट (Jim Corbett) में भ्रमण किया और एक फ़िल्म की शूटिंग (Film shoot, Entertainment news,) में व्यस्त थे।

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने पुलवामा हमले पर (Pulwama attack news) आज एक प्रेस वार्ता में कहा,

 ''आतंकी हमले के बाद पीएम ने राष्ट्रीय शोक की घोषणा नहीं की, क्योंकि सरकारी पैसे से होने वाले योजनाओं का उद्धाटन रुक जाता. पूरे देश के चूल्हे शोक में बुझे थे और गुरुवार को प्रधानमंत्री चाय का आनंद ले रहे थे. इससे ज्यादा अमानवीय व्यवहार नहीं हो सकता.''

आइए जानिए क्या कुछ कहा सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने -

पुलवामा का आतंकी हमला हमारे देश की सामूहिक चेतना और अखंडता पर हमला है। हर भारतीय रोष और आक्रोश में है। कांग्रेस पार्टी और पूरा देश सेना और सरकार के साथ है।

देश को आज भी याद है कि श्रीमती इंदिरा गांधी और देश की सेना ने 1971 में पाकिस्तान को करारा जवाब दिया था। यह आज भी दोनों देशों के इतिहास के पन्नों पर दर्ज है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पार्टी के खिलाफ भड़काऊ बयान देकर सस्ती राजनीति का खेल खेला।

शहीदों और शहादत के अपमान का जो उदाहरण मोदी जी ने पेश किया वैसा कोई उदाहरण पूरी दुनिया में नहीं है।

जब पूरा देश पुलवामा में हमारे शहीदों की शहादत के सदमे से जूझ रहा था तब पीएम मोदी जी रामनगर नैनीताल में कार्बेट नेशनल पार्क में अपने प्रचार वाली फिल्म की शूटिंग कर रहे थे।

प्रधानमंत्री जी आप अपनी, अपने एनएसए और गृह मंत्री की विफलता को स्वीकार क्यों नहीं कर सकते?

हम आपसे सवाल पूछते हैं कि ये सैंकड़ों किलोग्राम आरडीएक्स देश में आये कहां से?

मोदी सरकार ने पुलवामा हमले से 48 घंटे पहले आंतकी संगठन के वीडियो को नज़रअंदाज कैसे कर दिया?

मोदी सरकार और गृह मंत्रालय द्वारा हवाई मार्ग से आवाजाही करने के सीआरपीएफ और बीएसएफ के प्रतिवेदन को क्यों ठुकराया?

मोदी सरकार के 56 महीनों में अकेले जम्मू-कश्मीर में हमारे 488 जवान शहीद हुए हैं, ऐसा क्यों?

नोटबंदी से आतंकी हमले बंद क्यों नहीं हुए, जैसा कि मोदी जी आपने देश से कहा था?

एक तरफ हम शहीदों के टुकड़े चुन रहे थे और दूसरी तरफ प्रधानमंत्री मोदी जी अपने प्रचार वाली फिल्म की शूटिंग कर चाय-नाश्ता उड़ाते रहे। क्या ये है भाजपाई राष्ट्रवाद?

More

पूरे देश के चूल्हे बंद थे, तब उनके गले से चाय-पकौड़े नीचे उतरे कैसे होंगे?

अब मोदी जी की विदाई का समय आ गया है। ऐसी अहंकारी और स्वयं-भू मोदी सरकार को इस देश की 130 करोड़ जनता जवाब देगी।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।