राहुल गांधी ने दिलाया भरोसा, छात्रों के मुद्दे को राष्ट्रीय एजेंडे में रखेंगे, आपकी चिंताएं हमारी हैं

राहुल गांधी ने कहा, "देश युद्ध से नहीं बल्कि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी व कला, साहित्य से आगे बढ़ सकते हैं। समाज तर्कशक्ति व न्याय के साथ प्रगति करता है।"...

एजेंसी
राहुल गांधी ने दिलाया भरोसा, छात्रों के मुद्दे को राष्ट्रीय एजेंडे में रखेंगे, आपकी चिंताएं हमारी हैं

नई दिल्ली, 6 दिसम्बर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने छात्रों को भरोसा दिलाया है कि उनकी पार्टी भविष्य के 'राष्ट्र निर्माताओं' से जुड़े मुद्दों को राष्ट्रीय एजेंडे में रखेगी।

कांग्रेस अध्यक्ष ने यह बात छात्रों से लिए जाने वाले अत्यधिक फीस, सीमित सीटों के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा व शिक्षा एवं रोजगार के क्षेत्रों में अंतर को ध्यान में रखते हुए कही।

कई छात्र कठिन चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। राहुल ने इन छात्रों को अवसरों तक सीधी पहुंच और इस प्रणाली में भ्रष्टाचार के खात्मे की प्रतिबद्धता का आश्वासन दिया।

छात्रों को लिखे एक पत्र में राहुल गांधी ने कहा कि एक प्लेटफॉर्म 'बेहतर भारत' लॉन्च किया जा रहा है, जहां छात्र अपनी बात रख सकेंगे और इसके बाद छात्रों के मुद्दों को राष्ट्रीय एजेंडे में रखा जाएगा।

राहुल गांधी ने लिखा,

"आपके लिए जो मुद्दे जरूरी हैं, आप उन्हें हमें बताएं। हम उन्हें राष्ट्रीय एजेंडे में रखेंगे। आपकी चिंताएं हमारी हैं, आपकी प्राथमिकताएं कांग्रेस पार्टी की प्राथमिकता है।"

छात्रों को राष्ट्र निर्माता बताते हुए राहुल गांधी ने कहा,

"देश युद्ध से नहीं बल्कि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी व कला, साहित्य से आगे बढ़ सकते हैं। समाज तर्कशक्ति व न्याय के साथ प्रगति करता है।"

उन्होंने कहा,

"हालांकि, आप में से बहुत मुश्किल लड़ाई का सामना कर रहे हैं, अच्छे कॉलेजों में दाखिला लेना आसान नहीं है, कॉलेज की फीस अक्सर बहुत ज्यादा होती है और कभी-कभी आप जिसका अध्ययन कर रहे होते हैं वह नौकरी पाने में मदद नहीं करता है।"

राहुल गांधी ने कहा,

"हम सब कुछ करेंगे जो हम कर सकते हैं, जिससे आप को अवसरों तक सीधी पहुंचन बनाने का मौका मिले, हम व्यवस्था प्रणाली में भ्रष्टाचार खत्म करेंगे, जो आपको पीछे धकेलता है।"

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।