राहुल गांधी ने फिर बोला हमला, अंबानी, अडाणी के लिए 'चौकीदार' हैं मोदी

राहुल गांधी ने कहा कि 'चौकीदार' ने लोगों के बैंक खातों से पैसे निकाले और उसे अपने घनिष्ठ मित्रों के बीच बांट दिया। Rahul Gandhi attacks, says, 'Modi is a watchman for Ambani, Adani...

देशबन्धु

हावेरी (कर्नाटक) Havari (Karnataka), 9 मार्च। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress President Rahul Gandhi) ने आम चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी- BJP (भाजपा) पर प्रहार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Prime Minister Narendra Modi पर अनिल अंबानी Anil Ambani और गौतम अडाणी (Gautam Adani) जैसे शक्तिशाली उद्योगपतियों का 'चौकीदार' होने का आरोप लगाया। बेंगलुरू (Bangalore) से लगभग 350 किलोमीटर दूर यहां एक जनसभा में राहुल ने कहा,

"मोदी हर जगह कहते हैं कि वह भ्रष्टाचार से लड़ रहे हैं। लेकिन वह स्वयं साक्षात भ्रष्टाचार हैं। वह लोगों के लिए नहीं, बल्कि अंबानी और अडाणी के चौकीदार हैं।"

Rahul Gandhi attacks, says, 'Modi is a watchman for Ambani, Adani

कहां हैं नौकरियां? Where are the jobs?

देश में बीते 35 वर्षों में बेरोजगारी दर (Unemployment rates in last 35 years) सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच जाने को लेकर अफसोस जताते हुए राहुल ने कहा कि मोदी ने पांच साल में दो करोड़ नौकरियां सृजित करने का वादा किया था। उन्होंने कहा,

"कहां हैं नौकरियां? यहां तक कि मोदी शासन में किसानों का बुरा हाल है।"

राहुल ने दावा किया,

"जब कर्नाटक में हमारी (कांग्रेस और जद-एस) सरकार आई तो हमने 11,000 करोड़ रुपये का फसल ऋण माफ कर दिया। मोदी ने हमारे वादे को लॉलीपॉप कहा था। मई 2018 के विधानसभा चुनाव के लिए बने पार्टी के घोषणापत्र में हमने जो वादे किए थे, वे पूरे किए।"

पार्टी अध्यक्ष के संबोधन का प्रदेश कांग्रेस प्रमुख दिनेश गुंडू राव ने कन्नड़ में अनुवाद किया।

राहुल गांधी ने कहा कि फसल ऋण माफ करने के बजाय मोदी ने अंबानी और अडाणी सहित 15 अंतरंग मित्रों के 3.5 लाख करोड़ रुपये के ऋण माफ कर दिए।

कांग्रेस प्रमुख ने नवंबर 2016 में नोटबंदी किए जाने को लेकर मोदी पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि नोटबंदी ने लाखों लोगों को कड़ी मेहनत से कमाए नोटों को बदलने या अपने खाते में जमा करने के लिए बैंकों के आगे कतार में खड़े करवा दिया।

पार्टी के परिवर्तन रैली में राहुल ने कहा,

"नोटबंदी ने आप सभी को कतार में खड़ा करवा दिया। लेकिन आपने क्या नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, विजय माल्या या अंबानी जैसे किसी सूट-बूट वाले व्यक्ति को कतार में खड़ा देखा?"

उन्होंने कहा कि 'चौकीदार' ने लोगों के बैंक खातों से पैसे निकाले और उसे अपने घनिष्ठ मित्रों के बीच बांट दिया।

राहुल ने कहा,

"पांच साल पहले, मोदी ने कहा था 'मुझे चौकीदार बनाइए, प्रधानमंत्री नहीं'। देश ने उन्हें वोट दिया। लेकिन मोदी ने 30,000 करोड़ रुपये चुराकर अंबानी की जेब में डाल दिए।"

उन्होंने मोदी पर अंबानी को फ्रांस की एरोस्पेस कंपनी दसॉ एविएशन से भारतीय वायुसेना के लिए 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने का ऑफसेट ठेका पाने में मदद करने का आरोप भी लगाया।

राहुल ने दावा किया,

"कागजात (आधिकारिक दस्तावेज) से पता चलता है कि प्रधानमंत्री ने रक्षा मंत्रालय के समानांतर अपनी तरफ से समझौता किया। अंबानी राफेल सौदे के लिए मोदी के साथ फ्रांस गए, हालांकि उन्होंने अपने जीवन में कभी कोई विमान नहीं बनाया।"

राफेल मुद्दे पर संसद में दिए अपने भाषण को याद करते हुए राहुल ने कहा कि उन्होंने मोदी से पूछा था कि एक विमान के लिए 1,600 करोड़ रुपये क्यों खर्च किया गया।

कांग्रेस अध्यक्ष ने दुख जताते हुए कहा,

"राफेल का ठेका बेंगलुरु स्थित सरकारी कंपनी हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को देने से इनकार कर मोदी ने कर्नाटक से नौकरियां क्यों चुरा ली? वह (मोदी) 100 मिनट से ज्यादा समय तक बोलते रहे, लेकिन किसी सवाल का जवाब नहीं दिया।"

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।