गुजरात : “विकास” पर राहुल के सवाल, BJP नहीं ढूंढ पा रही जवाब कि विकास क्यों पागल हो गया है

राहुल ने गुजरात मॉडल को हथियार बनाकर प्रधानमंत्री मोदी पर सवालों की तोप चलाई राहुल ने बेरोजगारी, किसान, अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर जनता के सामने भाजपा पर कई सवाल दागे।...

देशबन्धु
हाइलाइट्स

कभी राहुल आक्रमक होते हैं, तो कभी प्रधानमंत्री मोदी के अंदाज में ही उन्हें घेरते है। आज भी राहुल ने गुजरात मॉडल को हथियार बनाकर प्रधानमंत्री मोदी पर सवालों की तोप चलाई राहुल ने बेरोजगारी, किसान, अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर जनता के सामने भाजपा पर कई सवाल दागे।

Rahul Gandhi in Gujarat

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह से मोर्चा संभाल लिया है। राहुल ने इस बार प्रधानमंत्री मोदी के गढ़ में पंजे को मजबूत करने के लिए अलग रणनीति तैयार की है। इसके तहत कभी राहुल आक्रमक होते हैं, तो कभी प्रधानमंत्री मोदी के अंदाज में ही उन्हें घेरते है। आज भी राहुल ने गुजरात मॉडल को हथियार बनाकर प्रधानमंत्री मोदी पर सवालों की तोप चलाई राहुल ने बेरोजगारी, किसान, अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर जनता के सामने भाजपा पर कई सवाल दागे।

राहुल ने पूछा कि गुजरात में आपकी सरकार, केंद्र में आपकी सरकार फिर विकास क्यों पागल हो गया है। क्यों यहां युवा बेरोजगार है। आखिर क्यों जनता बेहाल है।

राहुल ने भाजपा से पूछा कि आप 22 साल से सत्ता पर राज करने के बाद भी जनता की भलाई के लिए कुछ क्यों नहीं कर पा रहे हैं।

राहुल ने तंज कसते हुए कहा कि अगर आप से नहीं हो पाता है तो मोदी जी कह दें कि हम नाकामयाब है और कांग्रेस पार्टी आ जाए और वो मेरा काम कर दे।

इतना ही राहुल गांधी ने आज भाजपा पर आक्रमक अंदाज में नहीं बल्कि मुधर अंदाज जबरदस्त वार किए।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा ने बहुत कुछ सिखा दिया है।

राहुल यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि भाजपा ने पीट-पीट कर उनकी आंखें खोल दी हैं। भाजपा भले ही भाजपा #कांग्रेस मुक्त भारत की बात करती हों, लेकिन मैं कभी नहीं चाहूंगा भाजपा मुक्त भारत, क्योंकि उन्होंने काफी कुछ सीखा है. #राहुल ने कहा, 'दो मुद्दे हैं हिंदुस्तान में- किसान और रोजगार का मसला। इनका समाधान सरकार को करना चाहिए।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।