डॉ अरुण जेटली आप किसी से कम नहीं, लेकिन आपकी दवाई में दम नहीं

राहुल ने कहा कि...पीएम मोदी के जरिए लिए गए दोनों फैसले गलत है... इसका हरजाना जनता को भुगतना पड़ रहा है।...

हाइलाइट्स

राहुल ने तंज कसते हुए कहा कि... नोटबंदी और जीएसटी की वजह से अर्थव्यवस्था ICU में है, डॉ अरुण जेटली आप किसी से कम नहीं, लेकिन आपकी दवाई में दम नहीं...कृप्या दूसरा समाधान निकालिए, वरना सीट छोड़कर जाइए।

डॉ अरुण जेटली आप किसी से कम नहीं, लेकिन आपकी दवाई में दम नहीं

डीबी लाइव

अर्थव्यवस्था पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और वित्तमंत्री अरुण जेटली के बीच शुरू हुई जुबानी जंग इस हद तक बढ़ चुकी है कि दोनों नेता एक दूसरे पर वार करने के लिए नए-नए अंदाज को अपना रहे हैं। वित्तमंत्री अरुण जेटली को घेरने के लिए कभी राहुल फिल्म शोले की रचना करते हैं, तो कभी शायरी सुनाते हैं। जी हां आज भी राहुल ने जेटली शायराना अंदाज में तंज कसा।

गुरुवार सुबह कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर एक बार फिर जीएसटी और नोटबंदी पर वित्तमंत्री अरुण जेटली को आड़े हाथों लिया।

राहुल ने कहा कि...पीएम मोदी के जरिए लिए गए दोनों फैसले गलत है... इसका हरजाना जनता को भुगतना पड़ रहा है।

राहुल ने तंज कसते हुए कहा कि... नोटबंदी और जीएसटी की वजह से अर्थव्यवस्था ICU में है, डॉ अरुण जेटली आप किसी से कम नहीं, लेकिन आपकी दवाई में दम नहीं...कृप्या दूसरा समाधान निकालिए, वरना सीट छोड़कर जाइए।

राहुल ने अपने इस ट्वीट में जहां अर्थव्यवस्था को नोटबंदी और जीएसटी से पीड़ित बताया, तो वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली ये मानने के लिए तैयार ही नहीं है कि नोटबंदी और जीएसटी दुखदायी है। वो ये मानते है कि जीएसटी से ही देश की अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर लौटेगी। बुधवार को वित्तमंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर भी हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि जिन्होंने देश को बर्बाद किया है, अब वो प्रवचन ही करेंगे।

जेटली ने कांग्रेस पर देश और दुनिया की आंखों में धूल झोंकने का भी आरोप लगाया।

वैसे राहुल और जेटली की ये लड़ाई अभी शुरु नहीं हुई है, इससे पहले भी दोनों नेता एक दूसरे पर जमकर हमला बोल चुके हैं। राहुल गांधी ने तो जीएसटी पर फिल्म शोले की रचना तक कर डाली है। राहुल गांधी ने गुजरात में एक रैली के दौरान जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स बताया था.

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।