भाजपा की निकली हवा, सहयोगियों ने माना पप्पू नहीं राहुल

गुजरात में राहुल एक के बाद एक दौरे कर जनता का विश्वास जीतने में जुटे हैं, जिसने भाजपा की भी नींद उड़ा रखी है...

हाइलाइट्स

राउत ने कहा कि राहुल सरकार की नीतियों के खिलाफ जिस तरह से आवाज़ उठा रहे हैं, नोटबंदी और जीएसटी को सरकार को घेर रहे हैं। इन ज्वलंत मुद्दों को जनता के बीच रख रहे है, वो यही दर्शाता है कि राहुल गांधी कोई पप्पू नहीं है। वो देश का नेतृत्व करने के लिए पूरी तरह तैयार है और यही वजह है कि कांग्रेस के सीनियर लीडर भी अब उन्हें कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे हैं।

डीबी लाइव

भाजपा अक्सर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पप्पू कह कर उनपर हमलावर रहती है। लेकिन बीते कुछ वक्त से राहुल गांधी जिस तरह से उभर कर सामने आए हैं, उसने राजनीतिक पंडितों को तो चौंका ही दिया है, साथ ही सरकार में भाजपा के साथी दलों को भी ये कहने पर मजबूर कर दिया है कि राहुल पप्पू नहीं, बल्कि देश का नेतृत्व करने की पूरी क्षमता रखते हैं।

महाराष्ट्र में केंद्र में भाजपा के सहयोगी दल शिवसेना ने खुलकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की तारीफ की है।

दरअसल शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत निजी समाचार चैनल आज तक से बात कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि राहुल गांधी अब पहले जैसे नहीं रहे, पिछले काफी वक्त से लोगों को उनका अलग ही अंदाज़ देखने को मिल रहा है। राउत ने कहा कि राहुल सरकार की नीतियों के खिलाफ जिस तरह से आवाज़ उठा रहे हैं, नोटबंदी और जीएसटी को सरकार को घेर रहे हैं। इन ज्वलंत मुद्दों को जनता के बीच रख रहे है, वो यही दर्शाता है कि राहुल गांधी कोई पप्पू नहीं है। वो देश का नेतृत्व करने के लिए पूरी तरह तैयार है और यही वजह है कि कांग्रेस के सीनियर लीडर भी अब उन्हें कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे हैं।

आपको बता दें कि गुजरात और हिमाचल चुनाव को लेकर राहुल गांधी ने एड़ी चोटी का ज़ोर लगा रखा है। गुजरात में राहुल एक के बाद एक दौरे कर जनता का विश्वास जीतने में जुटे हैं, जिसने भाजपा की भी नींद उड़ा रखी है। और यही वजह है कि अब तो कांग्रेस के विरोध भी ये कहने को मजबूर को गए है कि राहुल में है दम।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>