देश की अर्थ व्यवस्था को नष्ट कर रहा संघी गिरोह - रणधीर सिंह सुमन

महंगाई बेरोजगारी बैंकों की लूट के खिलाफ गांधी भवन में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का धरना...

देश की अर्थ व्यवस्था को नष्ट कर रहा संघी गिरोह - रणधीर सिंह सुमन

महंगाई बेरोजगारी बैंकों की लूट के खिलाफ गांधी भवन में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का धरना

विभिन्न समस्याओ को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने दिया एक दिवसीय धरना

बाराबंकी। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिह सुमन ने कहा है कि संघी गिरोह देश की अर्थ व्यवस्था को नष्ट कर रहा है, जिसके दुष्परिणाम स्वरूप किसानों, मजदूरों, नौजवानो को भुगतना पड़ रहे हैं।

कामरेड सुमन आज बाराबंकी के गांधी भवन में भाकपा द्वारा आयोजित एक धरने के बाद जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

छद्म राष्ट्रवादी पार्टी का कश्मीर छोड़कर भागना 2019 की रणभेरी

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा गांधी भवन में यह एक दिवसीय धरना बढ़ती हुई मंहगाई, बेरोजगारी, डीजल-पेट्रोल के बढ़ते दाम, किसानो की फसलो का लाभकारी मूल्य न मिलना, संघी गिरोह द्वारा राष्ट्रीकृत बैको की खुलेआम लूट, संम्प्रादायिक विचारो के कारण धर्म विशेष के लोगो की पीट-पीटकर हत्या, आवारा पशुओ द्वारा किसानो की फसलो को नष्ट किये जाने के विरोध में दिया गया।

धरने को सम्बोधित करते हुये रणधीर सिह सुमन ने कहा कि मोदी सरकार के आने के बाद किसी भी क्षेत्र मे कोई विकास नही हुआ है।

मोदी को झटका : भारत-पाकिस्तान के बीच मैत्री के लिए आगे आईं पीएम मोदी की पत्नी जशोदा बेन

पार्टी के जिला सचिव बृजमोहन वर्मा ने कहा कि किसानों को उनकी फसल का लाभकारी मूल्य नहीं दिया जा रहा है, और फसलो को छुट्टा साड़ो से अलग चरवाया जा रहा है।

पार्टी के सहसचिव शिवदर्शन वर्मा ने कहा कि भाजपा सरकार किसान और मजदूर विरोधी है।

पार्टी के नेता प्रवीण कुमार ने कहा कि रोज-रोज डीजल-पेट्रोल बढ़ाकर जनता को भुखमरी की ओर बढ़ा रहे हैं।

धरना सभा का संचालन अखिल भारतीय किसान सभा के अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने किया। अध्यक्षता विनोद कमार यादव ने की।

धरने में मुनेश्वर बक्श वर्मा, दिग्विजय सिंह, अमर सिंह, गिरीश चन्द्र, वीरेन्द्र कुमार, कैलाश चन्द्र, सहजराम, राजेश सिंह, शिवराम, महेन्द्र यादव, रामलखन वर्मा, मुसाहिद अली, रामनरेश वर्मा आदि मौजूद रहे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।