भविष्य में तर्कवादी लोगों की हत्याएं कर सकता है संघी गिरोह – सुमन

संघी गिरोह की हिन्दुत्व वाली विचारधारा अब अपने असली चेहरे के साथ मैदान में आ गई है। जिसका परिणाम नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पंसारे, एम एम कलबुर्गी व गौरी लंकेश की हत्या हैं...

हाइलाइट्स

भूपिंदर पाल सिंह

बाराबंकी (उत्तर प्रदेश)। संघी गिरोह की हिन्दुत्व वाली विचारधारा अब अपने असली चेहरे के साथ मैदान में आ गई है। जिसका परिणाम नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पंसारे, एम एम कलबुर्गी व गौरी लंकेश की हत्या हैं। भविष्य में यह लोग तर्कवादी लोगों की हत्याएं कर सकते हैं।

उक्त विचार भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सहसचिव रणधीर सिंह सुमन ने व्यक्त किए। वे पार्टी की जिला कौंसिल बैठक में उपस्थित कार्यकर्ताओ को संबोधित कर रहे थे।

कॉमरेड रणधीर सिंह सुमन ने कहा कि इस उग्रवादी विचारधारा से देश की एकता और अखंडता को खतरा है। पार्टी इस संबंध में 15 सितंबर से 15 अक्टूबर तक जन जागरूकता अभियान चलाएगी।

कौंसिल सदस्यों को संबोधित करते हुए सचिव ब्रजमोहन वर्मा ने कहा कि गांव-गांव जाकर जनसभाओं के माध्यम से किसान कर्जों की फर्जी त्रण-माफी का पर्दाफाश किया जाएगा। 15 सितंबर को अतरोरा व 16 से जनसभा से जन-जागरूकता अभियान की शुरूआत होगी।

बैठक में कौंसिल के वीरेंद्र कुमार, प्रवीन कुमार, मुनेश्वर बक्श वर्मा, राम नरेश वर्मा, अमर सिंह प्रधान कैलाश आदि वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।