जो 70 साल में नहीं हुआ, सचमुच मोदीजी ने कर दिखाया पेट्रोल 80 के पार – राहुल गांधी

श्री गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार अपने चुनिंदा 15-20 उद्योगपति साथियों को फायदा पहुंचा रही है और किसानों तथा गरीबों पर ध्यान नहीं दे रही है।...

जो 70 साल में नहीं हुआ, सचमुच मोदीजी ने कर दिखाया पेट्रोल 80 के पार – राहुल गांधी

नई दिल्ली 10 सितंबर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर देश को जाति, धर्म और क्षेत्र के नाम पर बांटने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मोदी सरकार अपने सभी वादों को पूरा करने में असफल साबित हुई है और अब विपक्षी दल एकजुट होकर उसे सत्ता से बाहर कर देंगे।

पेट्रोल-डीज़ल के दामों में बढ़ोतरी के विरोध में आयोजित भारत बंद के दौरान दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, (प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदी जी कहते थे, जो 70 साल में नहीं हुआ, हम करेंगे, उन्होंने सचमुच ऐसा ही किया, पेट्रोल 80 रुपये के पार हो गया। राहुल गांधी ने कहा कि मोदी जी चुप हैं, जबकि पेट्रोल-डीज़ल के दाम आसमान छू रहे हैं, किसान तकलीफ में हैं, महिलाओं पर अत्याचार हो रहे हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने महंगाई और पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों के विरूद्ध आज आयोजित भारत बंद के दौरान यहां रामलीला मैदान में एक धरने को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा की जन विरोधी नीतियों के कारण देश के किसानों, मजदूरों, कारोबारियों और युवाओं को जो पीड़ा पहुंची है उसका यहां प्रदर्शन हो रहा है और इसलिए विपक्ष के सारे नेता उसके खिलाफ एकजुट होकर यहां खड़े हैं।



 

मोदी सरकार से जल्दी ही मुक्ति दिलाई जाएगी

श्री गांधी ने कहा कि इस एकजुटता को देखते हुए वह  देश की जनता को विश्वास दिलाते हैं कि मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों उसे जल्दी ही मुक्ति दिलाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि 2014 में श्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से कई वादे किए थे और वे जहां भी जाते हैं वादे करते हैं और इसी को देखते हुए देश की जनता ने उन पर भरोसा किया और उन्हें प्रधानमंत्री पद सौंपा, लेकिन चार साल में साबित हो गया है कि उन्होंने देश की जनता के लिए कुछ नहीं किया और उनसे किया कोई भी वादा पूरा नहीं किया।

इसकी बजाय, इस सरकार ने देश को जाति-धर्म के नाम पर बांटने का काम किया और इसकी वजह से जगह-जगह हिंसा हो रही है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के ऊंचे दामों ने लोगों के समक्ष संकट खड़ा कर दिया है। सरकार की नीतियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि नोटबंदी किस वजह से की गई यह अभी स्पष्ट नहीं हुआ है। इसी तरह से जीएसटी के मूल मकसद को भी बिगाड़ दिया और यह आज कारोबारियों व्यापारियों के लिए संकट बन गया है।

श्री गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार अपने चुनिंदा 15-20 उद्योगपति साथियों को फायदा पहुंचा रही है और किसानों तथा गरीबों पर ध्यान नहीं दे रही है।

उन्होंने कहा कि “हिंदुस्तान के युवाओं को ये सुनना चाहिए कि ये जो पैसा नरेन्द्र मोदी जी ने अपने मित्र को दिया है ये मोदी जी और उनके मित्र का नहीं है। ये 45000 करोड़ रुपया हिंदुस्तान के युवाओं का और किसानों का पैसा है।”

उन्होंने कहा,

“किसान का कर्जा माफ नहीं किया जा सकता है। मगर एक उद्योगपति को 45000 करोड़ का तोहफा दिया जा सकता है।”

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।