राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता निर्देशक प्रियनंदनन पर दक्षिणपंथियों का हमला

Right-wing attack on national award-winning director Priyanandanan...

एजेंसी

त्रिशूर, 25 जनवरी। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता निर्देशक प्रियनंदनन National Award winning director Priyanandanan पर शुक्रवार को संदिग्ध दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने हमला किया। उन पर यह हमला सबरीमाला Sabarimala मुद्दे पर सोशल मीडिया पर उनकी पोस्ट के बाद हुआ है। नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर चेरपु पुलिस स्टेशन के एक पुलिस अधिकारी ने एजेंसी से इस घटना की पुष्टि की है, जो प्रियनंदनन के घर के पास हुई।

Right-wing attack on national award-winning director Priyanandanan

अधिकारी ने कहा, "उनकी पिटाई की गई और उन पर गोबर मिला पानी फेंका गया। जांच जारी है।"

प्रियनंदनन ने कहा,

"ऐसा मालूम पड़ता है कि है कि वह व्यक्ति (हमलावर) मेरा इंतजार कर रहा था। वह मेरे पीछे आया, मुझे मारा, गोबर वाला पानी डाल दिया। यह सब सुबह नौ बजे के आसपास हुआ।"

उन्होंने कहा,

"आमतौर पर मैं इस विशेष मार्ग पर रोजाना सुबह सात बजे के आसपास टहलता हूं, लेकिन आज मुझे देरी हो गई। यह एक-आदमी का हमला नहीं है, इसके पीछे अन्य लोग हैं।"

53 वर्षीय प्रियनंदनन केरल के फिल्म और नाटक निर्देशक हैं। उनकी दूसरी फिल्म पुलिजानम को 2006 में सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला।

प्रियनंदनन का मानना है कि यह हमला सबरीमाला पर उनके हालिया सोशल मीडिया पोस्ट के चलते हुआ, जहां सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद संघ परिवार ने जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किया था।

बाद में उन्होंने संघ परिवार वालों के खिलाफ सोशल मीडिया पर विरोध के बाद अपनी पोस्ट डिलीट कर दी।

हमले की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने कहा कि ऐसे हमलों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा क्योंकि यह अभिव्यक्ति की आजादी पर सीधा हमला है।

विजयन ने कहा,

"यह नापाक कृत्य सिर्फ इसलिए हुआ क्योंकि उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी बात रखी थी। पोस्ट आने के तुरंत बाद उनकी आलोचना होने लगी। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और उचित कार्रवाई की जाएगी।"

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Kerala news in Hindi,

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।