और कठिन हुई भाजपाराज में पत्रकारिता, श्रीनगर में वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की गोली मारकर हत्या

और कठिन हुई भाजपाराज में पत्रकारिता, श्रीनगर में वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की गोली मारकर हत्या...

और कठिन हुई भाजपाराज में पत्रकारिता, श्रीनगर में वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की गोली मारकर हत्या

नई दिल्ली, 14 जून। केंद्र में भाजपा सरकार आने के बाद से भारत खासकर भाजपा शासित राज्यों में पत्रकारिता दिन-ब-दिन कठिन होती जा रही है, पत्रकारों पर हमले बढ़ते ही जा रहे हैं। अब वरिष्ठ पत्रकार और अंग्रेजी दैनिक 'राइजिंग कश्मीर' के प्रधान संपादक शुजात बुखारी की गुरुवार को उनके कार्यालय के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई।

पुलिस के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में यह जानकारी दी गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राज्य पुलिस प्रमुख एस.पी. वैद्य ने कहा,

"करीब 7:15 मिनट पर बुखारी प्रेस एन्क्लेव स्थित अपने कार्यालय से बाहर आए थे और जब वह अपनी कार में थे, आतंकवादियों ने उन पर हमला कर दिया।"

उन्होंने कहा,

"तीन मोटरसाइकिल सवार आतंकवादी आए और बुखारी व उनके सुरक्षाकर्मियों पर गोली चला दी। बुखारी और एक सुरक्षाकर्मी का निधन हो गया और एक अन्य गार्ड गंभीर रूप से घायल हो गया।"

मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बुखारी की हत्या पर आश्चर्य जताया

उन्होंने ट्वीट कर कहा,

"शुजात बुखारी के अचानक हत्या से स्तब्ध और बहुत दुखी हूं। ईद की पूर्व संध्या पर आतंक ने अपना बदसूरत सिर उठाया है। मैं इस बिना दिमाग वाली हिंसा की कड़ी निदा करती हूं और उनके आत्मा की शांति के लिए दुआ करती हूं। मेरी गहरी संवेदना उनके परिवार के साथ है।"

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी घटना पर गहरा दुख प्रकट किया है।

उन्होंने कहा,

"शुजात को जन्नत में जगह मिले और उनके चाहने वालों को संकट की इस घड़ी में ताकत मिले।"

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिह ने भी घटना पर शोक प्रकट किया है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा,

"राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या एक डरपोक कार्य है। यह कश्मीरियों की आवाज दबाने का प्रयास है। वह एक साहसी और निडर पत्रकार थे। उनकी मौत की खबर सुनकर हैरान और दुखी हूं। मेरी संवेदना उनके परिजनों के साथ है।"

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी शुजात बुखारी की हत्या की निन्दा की है।

बता दें जम्मू-कश्मीर में भी भाजपा की सरकार है।

 

inna lilahi wa inna illahi rajiuun. Shocked beyond words. May Shujaat find place in Jannat & May his loved ones find strength at this difficult time.

— Omar Abdullah (@OmarAbdullah) June 14, 2018

Even in the last tweet he put out he was defending himself, his colleagues & his profession. He died in the line of duty doing what he did best & loved doing - journalism. #ShujaatBukhari https://t.co/xEA2hg2xp1

— Omar Abdullah (@OmarAbdullah) June 14, 2018

I’m anguished to hear about the killing of Shujaat Bukhari, editor of @RisingKashmir. He was a brave heart who fought fearlessly for justice and peace in Jammu & Kashmir. My condolences to his family. He will be missed.

— Rahul Gandhi (@RahulGandhi) June 14, 2018

Shocked & deeply saddened by the sudden demise of Shujaat Bukhari. The scourge of terror has reared its ugly head on the eve of Eid. I strongly condemn this act of mindless violence & pray for his soul to rest in peace. My deepest condolences to his family.

— Mehbooba Mufti (@MehboobaMufti) June 14, 2018

Terrorism has hit a new low with Shujaat’s killing. That too, on the eve of Eid. We must unite against forces seeking to undermine our attempts to restore peace. Justice will be done. https://t.co/8oCNXan13L

— Mehbooba Mufti (@MehboobaMufti) June 14, 2018

The killing of @RisingKashmir editor, Shujaat Bukhari is an act of cowardice. It is an attempt to silence the saner voices of Kashmir. He was a courageous and fearless journalist. Extremely shocked & pained at his death. My thoughts and prayers are with his bereaved family.

— Rajnath Singh (@rajnathsingh) June 14, 2018
हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।