कांग्रेस के बड़े नेता सरदार वल्लभ भाई पटेल ने RSS पर देशद्रोह का आरोप लगाया था !

श्री नरेंद्र मोदी को देश को यह भी बताना चाहिये कि महापुरुषों के विचार क्या थे।...

कांग्रेस के बड़े नेता सरदार वल्लभ भाई पटेल ने RSS पर देशद्रोह का आरोप लगाया था !

नई दिल्ली, 31 अक्तूबर। स्वतन्त्र भारत के प्रथम गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue of Unity) का आज यानी 31 अक्टूबर को उनकी जयंती पर उद्घाटन हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue of Unity) का अनावरण किया, लेकिन क्या कांग्रेसी नेता सरदार वल्लभ भाई पटेल ने RSS पर देशद्रोह का आरोप लगाया था !

सरदार पटेल की प्रतिमा का अनावरण करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "मुझे हैरानी होती है, जब हमारे ही देश के कुछ लोग इस पहल (सरदार पटेल की प्रतिमा स्थापित किया जाना) को राजनीतिक नज़र से देखते हैं, और इस तरह हमारी आलोचना करते हैं, जैसे हमने कोई अपराध किया हो... क्या देश के महापुरुषों को याद करना अपराध है...?"

प्रधानमंत्री के इस प्रश्न, "क्या देश के महापुरुषों को याद करना अपराध है...?" का मंगल पांडे सेना प्रमुख वरिष्ठ पत्रकार व इतिहासकार अमरेश मिश्र ने जवाब देते हुए कहा है कि भारत के प्रथम गृह मन्त्री ने RSS पर देशद्रोह का आरोप लगाया था!

श्री मिश्र ने अपनी एफबी टाइमलाइन पर लिखा,

“स्वतन्त्र भारत के लौह पुरुष, सरदार वल्लभ भाई पटेल की 143वी जयंती पर विशेष : भारत के प्रथम गृह मन्त्री ने कैसे RSS पर देशद्रोह का आरोप लगाया था!

आज RSS की मदद से प्रधान मन्त्री बने 'स्वयं सेवक' श्री नरेंद्र मोदी, सरदार पटेल की 143वी जयंती पर भारत के उस निर्माता की विश्व मे बनी सबसे ऊंची (597 फीट) प्रतिमा का अनावरण कर रहे हैं।

यह अच्छी पहलकदमी है। मंगल पांडे समेत, भारत के सभी सपूतों और वीरांगनाओं की भव्य से भव्य प्रतिमायें बननी-लगनी चाहिये।

पर श्री नरेंद्र मोदी को देश को यह भी बताना चाहिये कि महापुरुषों के विचार क्या थे।

30 जनवरी 1948 के दिन, नाथूराम गोडसे, जो अंग्रेज़ों के इशारे पर RSS और हिन्दू महासभा द्वारा की गयी राष्ट्रवाद की विकृत और गलत परिभाषा को सच मान बैठा था, ने महात्मा गांधी की हत्या कर दी।

सरदार पटेल ने RSS पर बैन लगाया।

18 जुलाई, 1948 को, RSS और हिन्दू महासभा के नेता, श्यामा प्रसाद मुखर्जी को लिखे एक पत्र मे सरदार पटेल ने लिखा:

"इन दो (RSS और हिन्दू महासभा) संगठनो की वजह से, और इसमे RSS की खास भूमिका रही है, इस देश मे ऐसा माहौल बनाया गया, जिसके फलस्वरूप यह जघन्य त्रासदी (महात्मा गांधी की हत्या) सम्भव हुई। मैं बिना संदेह यह कह सकता हूं, कि हिन्दू महासभा महात्मा गांधी की हत्या की साज़िश मे शामिल थी। RSS राष्ट्रद्रोह मे शामिल है। RSS का वजूद, भारत देश की सरकार और राज्य के मूलभूत सिद्धान्तों को चुनौती देता है।"”

ख़बरें अभी और भी हैं काम की

सीबीआई में गैंगवार : सरदार पटेल के सपनों की एजेंसी को तहस-नहस कर रही है मोदी सरकार

लेकिन मोदीजी नेताजी के विरूद्ध त्रिपुरी अधिवेशन में जो प्रचार हुआ उसमें तो सरदार पटेल की प्रमुख भूमिका थी !

स्टेच्यू ऑफ यूनिटी में भी घोटाला ! कैग ने सरकारी कंपनियों के सीएसआर पर धन देने पर सवाल उठाए

द्विराष्ट्र सिद्धांत के गुनाहगार : हिन्दू राष्ट्रवादियों की देन, जिसे जिन्नाह ने गोद लिया

नेहरू, कश्मीर और कश्मीरियत को यहाँ से समझें

भारतीय प्रजातंत्र को कमज़ोर करेगी नेहरु की विरासत की अवहेलना

वल्लभभाई पटेल: एक विरासत का विरूपण और उसे हड़पने का प्रयास

बाल नरेंद्र वाकई बहुत छोटे हो तुम ! सिर्फ संघपूत हो, जो भारत के कपूत परंपरा के सिरमौर हैं

मोदी जी, सोमनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण सिर्फ सरदार पटेल ने नहीं कराया, दिग्विजय सिंह ने रखी थी मंदिर की आधारशिला

पटेल नेहरू छोड़ो मोदीजी, आपके राज में आपके लौह पुरुष अडवाणी कहाँ हैं

मोदीजी ! सरदार पटेल को गांधी जी और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया

सरदार पटेल को आरएसएस का संगी नहीं बना सकता नरेंद्र मोदी का इतिहासबोध भी

अगर सरदार पटेल पहले प्रधानमंत्री बने होते तो देश में पाक जैसे हालात होते-कांचा इलैया

फेल हो गई भाजपा की पटेल को बड़ा दिखाने के लिए नेहरू को छोटा करने की साजिश

संघ-भाजपा का राष्ट्रवादी पाखंड... संघ के कार्यकर्ताओं ने वंदेमातरम अंग्रेजों के खिलाफ कभी नहीं गाया

पटेल को पूजकर क्या संघ हिन्दुत्व और हिन्दू राष्ट्रवाद को भूलने को तैयार है ?

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।