पाक कप्तान ने अफ्रीकी खिलाड़ी पर भद्दी टिप्पणी की, फिर मांगी माफी

South Africa की क्रिकेट टीम के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने उनकी टीम के खिलाड़ी पर की गई रंगभेद की टिप्पणी के लिए पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद Pakistani captain Sarfaraz Ahmad को माफ कर दिया है।...

एजेंसी

डरबन, 25 जनवरी। दक्षिण अफ्रीका South Africa की क्रिकेट टीम के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने उनकी टीम के खिलाड़ी पर की गई रंगभेद की टिप्पणी के लिए पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद Pakistani captain Sarfaraz Ahmad को माफ कर दिया है। वेबसाइट 'ईएसपीएन' की रिपोर्ट के अनुसार, प्लेसिस ने कहा कि सरफराज ने माफी मांगी है और ऐसे में टीम ने उन्हें माफ कर दिया है।

प्लेसिस ने टीम के प्रशिक्षण सत्र के दौरान कहा,

"हमने उन्हें (सरफराज) माफ कर दिया है, क्योंकि उन्होंने माफी मांगी है। उन्होंने अपने गलत व्यवहार की जिम्मेदारी ली है। अब यह हमारे हाथों में नहीं है। इस मामले को अब अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट समिति देखेगी।"

अफ्रीका खिलाड़ी की मां पर और रंगभेदी टिप्पणी को लेकर फंस गए पाकिस्तानी कप्तान सरफराज

उल्लेखनीय है कि सरफराज ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए दूसरे वनडे मैच के दौरान मेजबान टीम के एक खिलाड़ी एंडिले फेहुलक्वायो Andy Fehlukuyo के खिलाफ रंगभेद की टिप्पणी comment of apartheid की थी। उनकी ये बातें स्टम्प माइक में रिकॉर्ड हो गईं। इस कारण सोशल मीडिया पर उनकी काफी आलोचना हुई थी। आईसीसी को मैच रैफरी रंजन मदुगाले की ओर से मामले की रिपोर्ट मिल गई है और वह इस मामले को देख रही है।

इस पर प्लेसिस ने कहा,

"जब आप दक्षिण अफ्रीका का दौरा करो, तो आपको रंगभेद जैसी टिप्पणी करते वक्त बेहद सावधान रहने की जरूरत है। मैं जानता हूं कि उनका कोई गलत मतलब नहीं था लेकिन उन्होंने इसकी जिम्मेदारी ली है और हम देखेंगे कि आगे क्या होता है।"

प्लेसिस ने कहा कि उनकी टीम इसे हल्के में नहीं ले रही है, लेकिन सरफराज ने अपनी टिप्पणी पर तुरंत खेद जताते हुए माफी मांगी और ऐसे में उन्हें माफ किया जा रहा है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि इसे टीम नजरअंदाज कर रही है।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।