एसबीआई अध्यक्ष ने परतापुर इंडस्ट्रियल एस्टेट में एसएमई शाखा का उद्घाटन किया

मेरठ में एसएमई शाखा का उद्घाटन करने के लिए अपने गृह नगर में आए एसबीआई अध्यक्ष रजनीश कुमार, शहर के लोगों के लिए शुरू की अनूठी और प्रभावशाली गतिविधियां......

एजेंसी
एसबीआई अध्यक्ष ने परतापुर इंडस्ट्रियल एस्टेट में एसएमई शाखा का उद्घाटन किया

मेरठ में एसएमई शाखा का उद्घाटन करने के लिए अपने गृह नगर में आए एसबीआई अध्यक्ष रजनीश कुमार, शहर के लोगों के लिए शुरू की अनूठी और प्रभावशाली गतिविधियां...

मेरठ - 14 अगस्त, 2018ः देश के सबसे बड़े ऋणदाता स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रजनीश कुमार ने कल अपने गृह नगर मेरठ का दौरा किया और इस दौरान समाज की बेहतरी की दिशा में योगदान देने वाली कुछ विकासात्मक गतिविधियों की शुरुआत की।

अध्यक्ष ने एसएमई ग्राहकों को समर्पित परतापुर इंडस्ट्रियल एस्टेट शाखा का भी उद्घाटन किया जहां उन्होंने मुद्रा ऋण के लाभार्थियों को सम्मानित किया और ग्राहकों को मुद्रा ऋण के प्रमुख लाभों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। श्री रजनीश कुमार ने कैंटोनमेंट में सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मुलाकात की और मेरठ कॉलेज का दौरा भी किया।

आर्मी कैंटोनमेंट का दौरा करने के दौरान श्री कुमार ने सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मिलकर एसबीआई की आर्मी कैंटोनमेंट शाखा में 501 पौधे भी लगाए। उन्होंने मेरठ कैंट के मिलिट्री हॉस्पिटल के लिए एसबीआई की तरफ से मोटरयुक्त 3 व्हीलचेयर्स, खास तौर पर डिजाइन किए गए टू-व्हीलर्स और 2 ई-रिक्शा सेना के वरिष्ठ अधिकारियों को भेंट किए। इसके अलावा, श्री कुमार ने बी ए वी इंटर कॉलेज को स्मार्ट क्लासरूम उपकरण और कक्षा 6 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए सीबीएसई अनुमोदित डिजिटल कंटेंट भी प्रदान किए।

इस दौरान एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा,

‘‘जब आप अपने घर आते हैं, तो यह अपने आप में एक खास अहसास होता है। मैं अपने आप को खुशकिस्मत मानता हूं कि मुझे मेरठ की बेहतरी के लिए कुछ करने का अवसर मिला है। एसएमई कारोबार के लिहाज से यह शहर हमेशा प्रभावशाली रहा है और मुद्रा ऋण और अन्य योजनाओं को एसएमई कारोबारियों के लिए वित्त पोषण की आवश्यकता को पूरा करने के लिहाज से ही उपलब्ध कराया गया है।‘‘

मेरठ में अनेक रचनात्मक वर्ष बिताने वाले श्री कुमार के लिए यह दिन अपनी जिंदगी के गुजरे दौर में एक बार फिर लौटने जैसा था। उन्होंने इस दौरान डॉक्टरों, शिक्षाविदों, सेना अधिकारियों, व्यापारियों और शहर के अन्य गणमान्य व्यक्तियों से मुलाकात की और उनसे विचार-विमर्श किया।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।