बलिया में छात्रा की सरेराह हत्या से कानून-व्यवस्था की पोल खुली : माले

 

लखनऊ, 9 अगस्त। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) ने बलिया में मंगलवार को स्कूल जा रही छात्रा की सरेराह हत्या की कड़ी निंदा की है। पार्टी ने इसे योगी राज में बद से बदतर हुई कानून-व्यवस्था का जीता-जागता उदाहरण बताया है।

राज्य इकाई की यहां जारी विज्ञप्ति में पार्टी ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के नाम पर योगी सरकार के अब तक के दावे जुबानी जमाखर्च से ज्यादा कुछ साबित नहीं हुए हैं। ‘रोमियो स्क्वायड’ की ढोल का पोल भी खुल चुका है। हकीकत में, अपराधी और भी बेखौफ होकर अपराध कर रहे हैं जिससे महिलाओं के साथ हिंसा व गुंडागर्दी की घटनाएं बढ़ी हैं। कानून-व्यवस्था के नाम पर आई योगी सरकार के साढ़े चार महीनों में महिलाओं और कमजोर वर्गों में भय का ही संचार हुआ है।

पार्टी ने बलिया की घटना की प्रशासनिक जवाबदेही तय करने और दोषियों को जल्द-से-जल्द सख्त सजा देने की मांग की है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।