भाजपा विधायक संजय यादव की कॉल डिटेल से उजागर होगा सिंकंदरपुर साम्प्रदायिक हिंसा का सच

भाजपा विधायक के उकसावे पर मुस्लिम समुदाय की दुकानों को लूटने और जलाने आरोप लगाते हुए भाजपा विधायक की काल डिटेल को जारी करने की मांग है जो साम्प्रदायिक हिंसा के दौरान उनकी मौजूदगी का ठोस प्रमाण है...

भाजपा विधायक की आपराधिक साजिश पर डाल रही है पर्दा पुलिस

सिकंदरपुर दौरे के बाद राजीव यादव और बलवंत यादव ने बलिया एसएसपी को भेजा पत्र

बलिया/ लखनऊ, 21 अक्तूबर 2017. सिकंदरपुर साम्प्रदायिक हिंसा में भाजपा विधायक संजय यादव और नगर पंचायत चेयरमैन के प्रतिनिधि व भाजपा नेता संजय जयसवाल की अपराधिक भूमिका को लेकर बलिया एसएसपी को राजीव यादव और बलवंत यादव ने पत्र भेजा। उन्होंने भाजपा विधायक के उकसावे पर मुस्लिम समुदाय की दुकानों को लूटने और जलाने आरोप लगाते हुए भाजपा विधायक की काल डिटेल को जारी करने की मांग है जो साम्प्रदायिक हिंसा के दौरान उनकी मौजूदगी का ठोस प्रमाण है।

राजीव यादव और बलवंत यादव द्वारा थाना सिकंदरपुर में दर्ज एफआईआर 715/2017 के सम्बंध में भेजे गए पत्र में कहा गया है कि दो तीन दिनों से लगातार कस्बा सिकंदरपुर में आकर उन पीड़ितों से उन्होंने मुलाकात की, जिनकी संपत्तियों को लूटा और जलाया गया था। घटना के संबन्ध में साक्ष्यों को भी इकट्ठा किया गया। यह घटना नगर पालिका चेयरमैन के पुत्र और प्रतिनिधि भाजपा नेता संजय जायसवाल और क्षेत्रीय विधायक संजय यादव एवं उनके साथियों की आपराधिक साजिश का नतीजा है। साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण करा कर राजनैतिक लाभ उठाने के उद्देश्य से इन लोगों ने इन घटनाओं को अंजाम दिया।

उन्होंने आरोप लगाया है कि विधायक संजय यादव घटना स्थल पर मौजूद थे, जब लूटपाट और आगजनी हो रही थी। वे और संजय जायसवाल निरंतर लोगों को उकसा रहे थे। उनके उकसावे पर ही मुसलमानों की दुकानों को चिंन्हित करके लूटा व जलाया जा रहा था। जलपा चौक से तीन सौ मीटर की दूरी में अब्दुल्ला कटरा, बेलाल कटरा, ताज मार्केट चौधरी कॉम्प्लेक्स में मुसलमानों की दुकानों को लूटा व जलाया गया। इन स्थलों पर जाने वाले बाजार से बस स्टैण्ड मुख्य मार्ग पर क्षेत्रीय विधायक संजय यादव और संजय जायसवाल अपने सहयोगियों के साथ मौजूद थे तथा अपनी आपराधिक साजिश को अंजाम दे रहे थे।

बलिया एसएसपी को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि इस घटना के बहुत से चश्मदीद गवाह हैं पर ये लोग राजनीतिक प्रभावशाली व्यक्ति हैं इसलिए पीड़ित व आम जनता इनके विरुद्ध गवाही देने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही है। सुरक्षा कारणों से अपनी पहचान छुपाकर गवाही देने के लिए अनेक गवाह तैयार हैं।

राजीव यादव और बलवंत यादव ने कहा है कि निष्पक्ष विवेचना के लिए आवश्यक है कि क्षेत्रीय विधायक संजय यादव की काल डिटेल निकलवाई जाए जिससे क्षेत्रीय विधायक के 1 सितम्बर  2017 को घटना स्थल पर मौजूदगी के साक्ष्य मिल जाएंगे। क्योंकि पुलिस जानबूझकर संजय यादव व संजय जयसवाल के आपराधिक साजिश पर पर्दा डाल रही है तथा उनको बचाने का प्रयास कर रही है।

सिकंदरपुर साम्प्रदायिक हिंसा में अपराधिक राजनैतिक साजिश को उजागर करने के लिए उन्होंने मांग की है कि विधायक संजय यादव और संजय जयसवाल की 30 सितम्बर 2017 से लेकर 2 अक्तूबर 2017  की मोबाइल काल डिटेल निकलवाने और उसे विवेचना में शामिल करने तथा गवाहों की पहचान छुपाकर उनके बयान दर्ज कराने को सुनिश्चित किया जाए।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।