एक तरफ चमकता भारत है दूसरी तरफ तरसता भारत - येचुरी

मोदी की विदेश यात्रा पर येचुरी का तंज देश का कल्याण देश में रह कर ही हो सकता है...

हाइलाइट्स

श्री येचुरी ने कहा कि देश का कल्याण देश में रह कर ही हो सकता है। उन्होंने कहा पीएम अपने को देश का चौकीदार बताते हैं। चौकीदार का काम है रक्षा करना मगर प्रधानमंत्री रोज एक नया सपना दिखाकर लोगों को सुलाने के काम में लगे हुए हैं। चौकीदार काम है जगाए रखना।

लखनऊ। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी ने मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि देश को नेता की नहीं नीतियों की जरूरत है।

येचुरी रविवार को बेनियाबाग में पार्टी के 22 वें राज्य स्तरीय सम्मेलन से पहले आयोजित रैली को सम्बोधित कर रहे थे।

येचुरी ने कहा कि सरकार सभी मोर्चों पर असफल रही है। देश की जो स्थिति है उसे सुधारने के लिए वैकल्पिक नीतियां बनाने की जरुरत है। इसी आधार लोगों को जोड़ना होगा।

एक तरफ चमकता भारत है दूसरी तरफ तरसता भारत

येचुरी ने कहा कि यूपीए गवर्मेंट में एक प्रतिशत लोगों के पास देश की 49 फीसदी पूंजी थी। तीन साल में यह पूंजी बढ़कर 73 फीसदी हो गई। इससे यह अंदाज लगाया जा सकता है कि केंद्र सरकार की नीतियां किसको लाभ पहुंचा रही हैं। एक तरफ चमकता भारत है दूसरी तरफ तरसता भारत। दोनों के बीच खाई बढ़ रही है। नोटबंदी और जीएसटी ने आर्थिक प्रगति की राह अवरुद्ध कर दिया है। व्यापार ठप हो गया। कल-कारखाने बंद हो गए। लाखों लोग बेरोजगार हो गए। वैकल्पिक आर्थिक नीतियां बनाने पर जोर देते हुए कहा कि इसके माध्यम से ही सबको शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार की सुविधा मिलेगी।

उन्होंने कहा कि देश में भाईचारे का माहौल बिगड़ा है। लवजिहाद और गोरक्षा के नाम पर हिन्दु-मुस्लिम के बीच खाई को बढ़ाया जा रहा है। साम्प्रदायिक ताकतें मजबूत हो रही हैं। देश की एकता और अखंडता कमजोर हो रही है।

येचुरी ने कहा कि संवैधानिक संस्थाओं पर हमला किया जा रहा है। एक फिल्म ‘पद्मावत’को सर्वोच्च न्यायालय ने रिलीज करने की अनुमति दी। मगर भाजपा शासित तीन राज्यों में मुट्ठी भर लोगों के विरोध के कारण प्रदर्शन नहीं हो सका। सर्वोच्च न्यायालय में जो कुछ हुआ उसको जनता ने देखा।

येचुरी ने कहा कि गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव आयोग की भूमिका पर भी सवाल खड़े हुए हैं। संसद के सत्र की अवधि को छोट कर दिया गया है। लोगों को अपना असंतोष दर्ज कराने के जनतांत्रिक अधिकार भी नहीं मिल रहा है।

देश का कल्याण देश में रह कर ही हो सकता है

माकपा महासचिव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश यात्रा की भी चुटकी ली। कहा कि शायद ही ऐसा कोई देश बचा हो जहां की यात्रा पीएम ने न की हो।

श्री येचुरी ने कहा कि देश का कल्याण देश में रह कर ही हो सकता है। उन्होंने कहा पीएम अपने को देश का चौकीदार बताते हैं। चौकीदार का काम है रक्षा करना मगर प्रधानमंत्री रोज एक नया सपना दिखाकर लोगों को सुलाने के काम में लगे हुए हैं। चौकीदार काम है जगाए रखना।

माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य सुभाषिनी अली ने पीएम पर सवाल उठाते हुए कहा कि गंगा की सफाई किसी के बूते की नही है। उन्होंने कहा, लोकसभा चुनाव जीतने के बाद नरेद्र मोदी ने अस्सी घाट पर फावड़ा चलाया, सफाई की और अलग से मंत्रालय बनाकर हजारों करोड़ जारी किया लेकिन सरकार के चार साल पूरे होने के बाद भी गंगा की दशा किसी से छिपी नही है।

बेनियाबाग मैदान मे भाकपा के राज्यस्तरीय सम्मेलन मे उन्होने कहा गंगा के नाम पर धन का बंदरबांट हो रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा गाय को दुलारते तो कभी बंदर से खेलते उनका फोटो अक्सर वायरल होता है लेकिन कब वे इंसान के बच्चों से प्यार करेंगे। कासगंज मे वर्ग विशेष को निशाना बनाया जाना बेहद शर्मनाक है।

बनारस की बदहाली पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि बनारस चार साल पहले से भी अधिक बदहाल हो गया है। विकास के नाम पर शहर को चौपट कर दिया गया है। पीएम अपना सांसद निधि का बजट तक नही खर्च कर पा रहे हैं।

सुभाषिनी अली ने कहा कि पीएम व सीएम की मौजूदगी मे जिस तरह बीएचयू मे बेटियों पर लाठियां चलाई गईं, इससे ज्यादा शर्मनाक कुछ हो ही नही सकता।

उन्होंने कहा, हर जगह भगवाकरण की कोशिश की जा रही है। अब समय आ गया है कि भगवा झंडा नीचे कर लाल झंडा को ऊंचा उठाया जाए।

सुभाषिनी ने नोटबंदी व जीएसटी के फैसले को गलत ठहराया। कहा इससे देश की अर्थ व्यवस्था चौपट हो गई है। योगी सरकार के छह माह के कार्यकाल मे 6000 दुष्कर्म के मामले सरकार की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगा रहे हैं।

जेएस मजूमदार ने कहा कि बूचड़खानो पर रोक लगाकर वर्ग विशेष को तो सरकार ने निशाना बनाया लेकिन अमीरों के इस कारोबार पर रोक नहीं लगाया। आज जरूरत है कि ज्यादा से ज्यादा गोशाला बने जिससे कि किसानों की फसल चौपट न होने पाए। उन्होंने कहा कि सरकार रोजगार के अवसर नही मुहैया करा पा रही है। इस कारण लोग प्रदेश छोड़ दूसरे सूबों में जा रहे हैं।

35 सदस्यीय राज्य कमेटी का सर्वसम्मति से चुनाव किया गया। राज्य सचिव पुनः #का_हीरालाल_यादव को चुना गया। 2 स्थान रिक्त रखे गए।

नई #राज्य_कमेटी

का. हीरालाल, एस. पी. कश्यप, डी. पी. सिंह, पी.एन. राय, मुकुट सिंह,  दीना सिंह, बी एल भारती, मधु गर्ग, रविशंकर मिश्रा, सुरेंद्र सिंह, अतीक अहमद, सीमा राणा, श्री प्रसाद, प्रदीप शर्मा, सुधीर सिंह, अखिल विकल्प, राधेश्याम, देवाशीष, राम अचल, सालिग राम, नन्दलाल पटेल, भारत सिंह, चंद्रपाल सिंह, मालती देवी, बाबूराम, बलवंत, नरोत्तम, अशोक तिवारी, वी के रावत, अनुज प्रताप, एन आर यादव, केशव सिंह आज़ाद, वीना गुप्ता।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।