अब शिवपाल ने मायावती पर हमला बोला, कहा भाजपा की गोद में बैठ जाने वाले मुझ पर भाजपा से मिले होने का आरोप लगा रहे हैं

मायावती तीन बार भाजपा से मिलकर उत्तर प्रदेश में सरकार बना चुकी हैं, नरेंद्र मोदी के लिए गुजरात जनसंहार के बाद वोट मांग चुकी हैं।...

लखनऊ, 12 जनवरी। सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP combine) होने के बावजूद घबराई मायावती (Mayawati) ने आज मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के अनुज शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) पर भाजपा से मिले होने का आरोप लगाया, तो दिन में शिवपाल की पार्टी के प्रवक्ताओं ने याद दिलाया कि मायावती तीन बार भाजपा से मिलकर उत्तर प्रदेश में सरकार बना चुकी हैं, नरेंद्र मोदी के लिए गुजरात जनसंहार के बाद वोट मांग चुकी हैं। तो देर शाम स्वयं शिवपाल ने बयान जारी कर मायावती पर हमला बोला।

शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों का वोट लेकर भाजपा की गोद में बैठ जाने वाले मुझ पर भाजपा से मिले होने का आरोप लगा रहे हैं। आम जनमानस और मीडिया को यह पता है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा के साथ मिलकर बार-बार किसने सरकार बनाई है, साथ ही उन्हें यह भी बताने की जरूरत नहीं है कि मेरा साम्प्रदायिक शक्तियों के खिलाफ पिछले चार दशकों का संघर्ष किसी भी संदेह से परे है।

उन्होंने कहा कि यह भी दुखद है कि आर्थिक भ्रष्टाचार में लिप्त और अपनी पार्टी का टिकट बेचने वाले मुझ पर भाजपा से आर्थिक सहयोग प्राप्त होने का आरोप लगा रहे हैं।

शिवपाल सिंह ने कहा कि समाजवादी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को समझना चाहिए कि इसके पूर्व भी मायावती पिछड़ो, दलितों और मुसलमानों का वोट लेकर भाजपा की गोद में बैठ चुकी हैं ऐसे में कहीं ऐसा न हो कि इतिहास फिर से स्वयं को दोहराए और मायावती चुनाव के बाद भाजपा से जा मिलें। उन्होंने कहा कि ये भी सबको पता है कि राजस्थान, मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के चुनाव में कांग्रेस से गठबंधन न कर बीजेपी को लाभ किसने पहुंचाया।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।