लाखों करोड़ों का पैकेज छोड़ ये गुरू चला रहे हैं इंजीनियरिंग और मेडिकल का एक अनूठा संस्थान

जानिए क्यों है बिहार की राजधानी पटना का यह संस्थान चर्चा के केंद्र में..

अतिथि लेखक
Updated on : 2018-09-05 11:06:44

लाखों करोड़ों का पैकेज छोड़ ये गुरू चला रहे हैं इंजीनियरिंग और मेडिकल का एक अनूठा संस्थान

पटना से अनूप नारायण सिंह की रिपोर्ट

जैसे ही कोचिंग संस्थानों की चर्चा होती है दिमाग में पूरी तरह से यह बात बैठती है कि एक मोटी फीस देनी पड़ सकती है लेकिन आपको जानकर यह सुखद आश्चर्य होगा कि बिहार की राजधानी पटना में एक ऐसा अनूठा संस्थान में संचालित हो रहा है जहां तीन बिहारी गुरू निशुल्क मेडिकल और इंजीनियरिंग की तैयारी ही नहीं करा रहे बल्कि सफलता के मुकाम तक भी छात्रों को पहुंचा रहे हैं।

जानिए क्यों है बिहार की राजधानी पटना का यह संस्थान चर्चा के केंद्र में..

संभवतः कोटा के बाद बिहार की राजधानी पटना इंजीनियरिंग और मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं की सबसे पसंदीदा जगह है। हो भी क्यों नहीं जहां पर मोटी फीस वाले संस्थान हैं दूसरी तरफ इंजीनियरिंग और मेडिकल की तैयारी करने वाले कोचिंग संस्थानों की दुकान कदम-कदम पर छात्रों को गुमराह भी करने से बाज नहीं आ रही हैं। लेकिन हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे संस्थान के बारे में जहां बिहार के टॉप शिक्षक छात्रों को शत-प्रतिशत सफलता की गारंटी ही नहीं कर रहे बल्कि अपने दावे को हकीकत में बदलने के लिए जी जान मेहनत से भी कर रहे हैं।

बिहार की राजधानी पटना के बोरिंग रोड चौराहा अवस्थित गीता कॉम्पलेक्स के द्वितीय तल पर अवस्थित है यह अनूठा संस्थान। बिहार के छात्रों के लिए राष्ट्रीय राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना चुके केमिस्ट्री के गुरु एस के वर्मा (skv) फिजिक्स के गुरु कुमार सौरभ( krs) मैथेमेटिक्स के गुरु दिलीप कुमार मिश्रा (d k m)एवं केमिस्ट्री के गुरु इंद्रासन कुमार (i k) ने इस अनूठे संस्थान की शुरुआत की है।

देश के कई ख्याति प्राप्त कोचिंग संस्थानों, जिसमें कोटा के भी कई नामचीन संस्थान शामिल हैं, में अपनी सेवा देने के बाद इन ख्याति प्राप्त गुरुओं ने बिहार के छात्रों को इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के क्षेत्र में शत-प्रतिशत सफलता दिलाने के लिए इस संस्थान की शुरुआत की है।

संस्थान के दिलीप कुमार मिश्रा ने बताया कि बिहार के छात्रों में प्रतिभा की कमी नहीं। कोचिंग संस्थानों की भीड़ में छात्रों की प्रतिभाएं भटक कर रह जाती हैं। एक ही छत के नीचे उनका सही ढंग से मार्गदर्शन हो, इसी को ध्यान में रखकर इस संस्थान की शुरुआत की गई है।

फिजिक्स के गुरु कुमार सौरभ ने बताया कि बिहार में अच्छे संस्थानों की कमी है। बाजारवाद आज शिक्षा पर पूरी तरह हावी हो चुका है छात्रों को सही मार्गदर्शन मिल सके तथा लक्ष्य के प्रति उन्हें ज्यादा सजग किया जा सके इसी उद्देश्य से इस संस्थान की शुरुआत की गई है।

केमिस्ट्री के चर्चित गुरु एस के वर्मा ने बताया कि क्लासरूम एक्सपर्ट्स, स्मार्ट क्लासरूम, डेली डिबेट क्लीयरिंग सेल डिजिटल लाइब्रेरी रिवीजन क्लासेज रेगुलर टेस्ट की सुविधा इस संस्थान के द्वारा प्रदान की जाएगी।

केमिस्ट्री के गुरू इंद्रासन कुमार ने बताया कि मेधावी छात्रों के लिए स्कॉलरशिप की भी व्यवस्था की गई है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

rame>

संबंधित समाचार :