छत्तीसगढ़ में चुनाव खत्म हो चुके, सरकार बन चुकी, फिर भी ईवीएम पर पहरा जारी है, जानते हैं क्यों ?

छत्तीसगढ़ में सरकार की ताजपोशी के बाद भी ठंड में जवान कर रहे ईवीएम की सुरक्षा...

एजेंसी

कोरिया (छत्तीसगढ़), 20 जनवरी। छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव Chhattisgarh assembly elections संपन्न हो चुके हैं, जिस पार्टी को जीतना था, वह जीत चुकी है। सीएम व मंत्रियों की ताजपोशी भी हो चुकी है। जीत के जश्न के बाद सरकार का कामकाज work of government भी शुरू हो चला है, लेकिन इन सबके बीच जिस पर किसी की नजर नहीं गई है वह यह है कि मतगणना counting of votes होने के बाद भी ईवीएम मशीन EVM machine अभी भी स्ट्रांग रूम strong room में रखी हुई है और 18 वीं बटालियन के जवान कड़ाके की ठंड में 24 घंटे उसकी सुरक्षा में लगे हुए हैं।

छत्तीसगढ़ में सरकार की ताजपोशी के बाद भी ठंड में जवान कर रहे ईवीएम की सुरक्षा

देर रात हाड़ को कंपकंपा देने वाली ठंड में भी जवान बंदूक लिए अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रहे हैं और सुरक्षा ऐसी है कि परिंदा भी पर नहीं मार सकता है। वोटिंग के बाद मतगणना के पहले स्ट्रांग रूम में रखी ईवीएम की सुरक्षा जैसी सुरक्षा अभी भी लगी हुई है, फर्क सिर्फ इतना है कि उस समय अधिकारी लगातार निरीक्षण करने आते थे, लेकिन अब कोई नहीं आता है। बावजूद इसके बटालियन के जवान अपने कर्तव्य को अंजाम दे रहे हैं।

जब इस संबंध में हमने जिले के कलेक्टर तथा जिला निर्वाचन अधिकारी नरेंद्र दुग्गा से बात की तो उन्होंने बताया कि मुख्य निर्वाचन अधिकारी के निर्देश पर मतगणना के पश्चात 45 दिनों तक ईवीएम को सुरक्षा के घेरे में रखा जाता है। इसके पीछे यह कारण भी होता है कि यदि कोई प्रत्याशी चुनाव के परिणाम के संबंध में कोर्ट में याचिका दायर करता है तो उसके लिए ईवीएम के रिकॉर्ड सुरक्षित रखना पड़ता है। 45 दिनों के बाद हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार को इसकी सूचना देकर ईवीएम को स्ट्रांग रूम से निकालकर स्टोर रूम में रख दिया जाएगा।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Elections in Chhattisgarh have ended, the government has been formed, yet the EVM is being guarded, why do you know?

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।