चिदंबरम ने गुजरात विकास मॉडल पर मोदी को घेरा

चिदंबरम ने आंकड़ों के लिए सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सवालों के घेरे में खड़ा किया है। साथ ही उन्होंने पीएम मोदी की भाषा शैली को लेकर भी निशाना साधा है।...

गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी अपने जिस विकास मॉडल के सहारे एक बार फिर अपनी नैया पार लगाने की कोशिश कर रही है, उसी विकास मॉडल को लेकर अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कई सवाल उठाए हैं। चिदंबरम ने आंकड़ों के लिए सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सवालों के घेरे में खड़ा किया है। साथ ही उन्होंने पीएम मोदी की भाषा शैली को लेकर भी निशाना साधा है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर आज गुजरात में विकास के दावों की पोल खोली। अपने पहले ट्वीट में चिदंबरम ने लिखा कि पिछले 57 सालों में देश के बाकी राज्यों की तरह गुजरात ने भी तरक्की की. गुजरात भी 1991 के आर्थिक उदारीकरण का लाभ पाने वाले राज्यों में से एक है, लेकिन वह अपवाद नहीं है।

वहीं दूसरे ट्वीट में चिदंबरम ने विकास के मामले में गुजरात कहां खड़ा है, ये बताते हुए लिखा कि सामाजिक प्रगति सूचकांक में देश के 29 राज्यों के साथ गुजरात 15वें स्थान पर आता है। यानी 14 राज्य गुजरात से ऊपर हैं और 14 उसके नीचे आते हैं। वहीं बुनियादी जरूरतों में गुजरात टॉप 5 में है, लेकिन जनकल्याण की सूची में वो पांचवें नंबर पर है। जबकि सूबे जनता के लिए अवसर पैदा करने की श्रेणी में गुजरात का 9वां नंबर है।

चिदंबरम ने सरदार सरोवर बांध को लेकर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरदार सरोवर बांध गलत शासन का उदाहरण है, मुश्किल से एक चौथाई पानी सिंचाई के काम आ रहा है, अभी भी 30000 किलोमीटर तक नहरें सूखी हैं जहां पानी जाना बाकी है।

चिदंबरम ने दलितों और आदिवासियों की स्थिति को लेकर भी भाजपा पर निशाना साधा, उन्होंने कहा कि यह वर्ग प्रदेश में नजरअंदाज किया गया है, इसपर किसी ने ध्यान नहीं दिया, उन्हें हिंसा का सामना करना पड़ता है।

इसके अलावा चिदंबरम ने पीएम मोदी के चुनाव प्रचार को लेकर भी सवाल खड़े किए. चिदंबरम ने कहा कि नरेंद्र मोदी को कम से कम राज्यों के चुनावों में तो एक प्रधानमंत्री की हैसियत से बोलना चाहिए.

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।