महामहिम, कृपया मतदान का नाम बदल दीजिए क्योंकि ...

मतदान का नाम बदल देना चाहिए : राष्ट्रपति से गुजारिश

नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश नेशनल पैंथर्स पार्टी के अध्यक्ष राजीव जौली खोसला ने राष्ट्रपति महोदय से गुजारिश की है कि मतदान का नाम बदलकर कुछ और रख देना चाहिए, क्योंकि भारतीय संस्कृति के हिसाब से दान देने के बाद दानकर्ता का कोई भी अधिकार नहीं रह जाता।

श्री खोसला ने कहा सरकारें मनमर्जी करती हैं, जिसका उदाहरण नोटबंदी, आनन-फानन में जीएसटी कानून व कमरतोड़ महंगाई बढ़ती जा रही है। उम्मीदवार चुनाव लड़ने से पहले 15-20 दिन जनता को खूब लुभाते हैं और जीतने के बाद पांच साल तक जनता को नजर नहीं आते।

पैंथर्स पार्टी ने कहा है कि भारतीय वोटर जो अपनी वोट का खुद उपयोग करता है, मतदान के बाद सरकारों द्वारा दुरुपयोग किया जाता है, क्योंकि भारतीय संस्कृति में दान देने के बाद अधिकार समाप्त हो जाता है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।