इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल पारित कराने की एकतरफा कोशिश के विरोध में बिजली कर्मचारी करेंगे विशाल रैली

बजट सत्र में इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल पारित कराने की एकतरफा कोशिश के विरोध में 14 मार्च को लखनऊ में बिजली कर्मचारियों की विशाल रैली: हड़ताल की चेतावनी:...

बजट सत्र में इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल पारित कराने की एकतरफा कोशिश के विरोध में 14 मार्च को लखनऊ में बिजली कर्मचारियों की विशाल रैली: हड़ताल की चेतावनी:

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उप्र चेतावनी दी है कि यदि संसद के बजट सत्र में इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल 2014 पारित करने की एकतरफा कोशिश हुई तो प्रदेश के तमाम बिजली कर्मचारी और इंजीनियर विरोध स्वरुप उसी दिन हड़ताल/कार्य बहिष्कार करेंगे। समिति ने बताया कि इस सम्बन्ध में नेशनल को आर्डिनेशन कमीटी ऑफ इलेक्ट्रिसिटी इम्पलॉईस एंड इन्जीनियर्स ने केन्द्र सरकार को नोटिस भेज दी है। इसी नोटिस के क्रम में विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति ने आज प्रदेश सरकार और पावर कारपोरेशन प्रबन्धन को नोटिस भेज कर 14 मार्च को लखनऊ में विशाल रैली करने और इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल 2014 को पारित करने की एकतरफा कोशिश के विरोध में हड़ताल करने की सूचना दे दी है।

संघर्ष समिति की आज यहां हुई बैठक में राजीव सिंह, गिरीश पाण्डेय, सद्रूद्दीन राना, सुहैल आबिद, करतार प्रसाद, पी एन तिवारी, मो0 इलियास, भगवान मिश्र, पूसे लाल, के एस रावत, ए के श्रीवास्तव, कुलेन्द्र सिंह चैहान मुख्यतया उपस्थित थे।

संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि 14 मार्च को प्रातः 11ः00 बजे हाईडिल फील्ड हाॅस्टल, लखनऊ से रैली प्रारम्भ होकर शक्ति भवन, मुख्यालय तक जायेगी और शक्ति भवन पर विरोध सभा एवं प्रदर्शन किया जायेगा। समिति की मुख्य मांगे बिजली निगमों का एकीकरण कर उ प्र राज्य विद्युत परिषद लि का पुर्नगठन करना, इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल 2014 को वापस लेना, सरकारी क्षेत्र के बिजली उत्पादन गृहों का नवीनीकरण/उच्चीकरण करना और निजी घरानों को मंहगी बिजली खरीदने हेतु सरकार क्षेत्र के बिजली घरों को बंद करने की नीति समाप्त करना, बिजली कर्मियों की वेतन विसंगतियों का निराकरण करना, वर्ष 2000 के बाद भर्ती हुए सभी कार्मिकों के लिए पुरानी पेन्शन प्रणाली लागू करना और सभी श्रेणी के समस्त रिक्त पदों पर नियमित भर्ती करना, भर्ती में संविदा कर्मियों को वरीयता देना और भर्ती होने तक संविदा कर्मियों को सीधे भुगतान करना मुख्य है।

समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल के जनविरोधी प्रतिगामी प्राविधानों का  समिति पुरजोर विरोध जारी रखेगी और जिस दिन बिल सदन में रखा जायेगा उसी दिन विरोध स्वरुप प्रदेश भर के बिजली कर्मी एक दिन की हड़ताल/कार्य बहिष्कार करेंगे।

उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल में बिजली वितरण और विद्युत् आपूर्ति के लाइसेंस अलग अलग करने तथा एक ही क्षेत्र में कई विद्युत् आपूर्ति कम्पनियाँ बनाने का प्राविधान है द्य बिल के अनुसार सरकारी कंपनी को सबको बिजली देने (यूनिवर्सल पावर सप्लाई ऑब्लिगेशन ) की अनिवार्यता होगी जबकि निजी कंपनियों पर ऐसा कोई बंधन नहीं होगा द्य स्वाभाविक है कि निजी आपूर्ति कम्पनियाँ मुनाफे वाले बड़े वाणिज्यिक और औद्योगिक घरानों को बिजली आपूर्ति करेंगी जबकि सरकारी क्षेत्र की बिजली आपूर्ति कंपनी निजी नलकूप , गरीबी रेखा से नीचे के उपभोक्ताओं और लागत से कम मूल्य पर बिजली टैरिफ के घरेलू उपभोक्ताओं को बिजली आपूर्ति करने को विवश होगी  और घाटा उठाएगी।

उन्होंने कहा कि निजी घरानों पर अति निर्भरता की गलत ऊर्जा नीति का ही नतीजा है कि उप्र की बिजली वितरण कंपनियों का कुल घाटा 77 हजार करोड़ रु से अधिक हो गया है जो विद्युत परिषद के विघटन के समय मात्र 77 करोड़ रु था। स्पष्टतया घाटे के नाम पर बिजली बोर्ड के विघटन का प्रयोग पूरी तरह असफल साबित हुआ है। इसीलिए आवश्यक है कि नये-नये प्रयोग करने के बजाय उप्र राज्य विद्युत परिषद लि का पुर्नगठन किया जाये।

उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिसिटी संविधान की समवर्ती सूची में है और राज्य का विषय है किन्तु यदि इलेक्ट्रिसिटी (अमेण्डमेंट) बिल पारित हो गया तो बिजली के मामले में केंद्र का वर्चस्व बढ़ेगा और राज्यों की शक्ति कम होगी इस दृष्टि से भी जल्दबाजी करने के बजाये संशोधन बिल पर राज्य सरकारों, बिजली उपभोक्ताओं और बिजली कर्मचारियों की राय ली जानी चाहिए।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।