सपा ने अपने नेता पुत्रों के डंपिंग ग्राउण्ड में एक नितिन की भरपाई दूसरे नितिन से की !!!

वरिष्ठ कांग्रेस नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी के बेटे नितिन चतुर्वेदी समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं।...

सपा ने अपने नेता पुत्रों के डंपिंग ग्राउण्ड में एक नितिन की भरपाई दूसरे नितिन से की!!!

ज़बरदस्त नेता का ज़बरदस्ती नेता बेटा पुश्तों से कांग्रेसी परिवार के घर साइकिल ले आया

नई दिल्ली, 08 नवंबर। समाजवादी पार्टी पहले से ही नेता पुत्रों का डंपिंग ग्राउण्ड और लाँचिंग पैड है। अब इस डंपिंग ग्राउण्ड में एक नया सितारा जुड़ गया है। सपा के इस डंपिंग ग्राउण्ड में भर्ती नए सितारा कोई और नहीं बल्कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी के पुत्र नितिन चतुर्वेदी हैं। इत्तेफाक यह है कि अखिलेश यादव की आंखों के तारा रहे नरेश अग्रवाल के पुत्र "नितिन" अग्रवाल अब सपा में नहीं हैं तो "नितिन" चतुर्वेदी ने अखिलेश की लाल टोपी पहन ली है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वरिष्ठ कांग्रेस नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी के बेटे नितिन चतुर्वेदी समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं। हालांकि, सत्यव्रत ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस नहीं छोड़ी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सत्यव्रत चतुर्वेदी, नितिन चतुर्वेदी के नामांकन पत्र दाखिल भरने के दौरान खुद मौजूद रहे। इस मौके पर सत्यव्रत चतुर्वेदी ने कहा, "कांग्रेस 15 साल से गलती दोहरा रही है। इसलिए अन्याय के खिलाफ जनता की अदालत में जाऊंगा।"

एक ज़बरदस्त नेता का ज़बरदस्ती नेता बेटा बंटी

वरिष्ठ पत्रकार पंकज चतुर्वेदी ने टिप्पणी की कि

“मध्य प्रदेश कांग्रेस के सचिव नितिन चतुर्वेदी ने अखिलेश यादव की लाल टोपी पहन ली। वो राजनगर छतरपुर से सपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। विडम्बना है कि नितिन को उनके पिता सत्यव्रत चतुर्वेदी साथ दे रहे हैं। विनोद भायी यानी सत्यव्रत ने पिछले साल सक्रिय राजनीति से विरक्ति की घोषणा की थी। वे अपने पुत्र के लिए टिकट चाहते थे। पार्टी ने विनोद भाई को महाराजपुर से टिकट देने को कहा था लेकिन वे बेटे के लिए अड़े थे।

असल में नितिन यानी बंटी एक ज़बरदस्त नेता का ज़बरदस्ती नेता बेटा है। न भाषण देने की कला न ही बौद्धिक स्तर। बातचीत में उजड्ड और लोगों की इज़्ज़त न करने वाला। जिस चदला सीट से विनोद भायी बेताज बादशाह कहलाते थे, नितिन उस सीट पर ज़मानत गँवा चुके हैं।

अब नितिन के मोह में बाप भी लाल टोपी के साथ हो गये। अभी तीन दिन पहले बिजवर सीट से मुन्ना राजा के कांग्रेस से फ़ॉर्म भरवाने के जुलूस में विनोद शामिल हुए थे। कांग्रेस ने राजनगर से अपने दो बार से विधायक नाती राजा को फिर से टिकट दिया और पुश्तों से कांग्रेसी परिवार के घर साइकिल आ गयी।

हालाँकि सभी जानते हैं कि सत्यव्रत चतुर्वेदी पुत्र मोह में अपनी प्रतिष्ठा की अपूर्णीय क्षति करने जा रहे हैं।”

सियासी गलियारों में आम चर्चा है कि अखिलेश यादव और मायावती दोनों ही कांग्रेस को नुकसान पहुंचाकर भाजपा को फायदा पहुंचाने की कोशिशों में लगे हुए हैं। अब देखना है अपने इस उद्देश्य में बुआ-बबुआ कितने सफल हो पाते हैं।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>