यूपी पुलिस द्वारा फर्जी एनकाउंटर में घायल कर दिए गए जितेन्द्र यादव के पीड़ित परिवार से मिले शिवपाल, की आर्थिक मदद

शिवपाल सिंह यादव आज शय्याग्रस्त जिम ट्रेनर जितेन्द्र यादव से मिले और उन्हें एक लाख रुपए की सहायता प्रदान की तथा मांग की कि सरकार पीड़ित परिवार को एक करोड़ रुपया मुआवजा दे...

यूपी पुलिस द्वारा फर्जी एनकाउंटर में घायल कर दिए गए जितेन्द्र यादव के पीड़ित परिवार से मिले शिवपाल, की आर्थिक मदद

नोएडा, 10 अक्तूबर। समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के मुखिया शिवपाल सिंह यादव आज शय्याग्रस्त जिम ट्रेनर जितेन्द्र यादव से मिले और उन्हें एक लाख रुपए की सहायता प्रदान की तथा मांग की कि सरकार पीड़ित परिवार को एक करोड़ रुपया मुआवजा दे।  

बता दें इस वर्ष फरवरी माह में उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा नोएडा सेक्टर 122 के निवासी 27 वर्षीय निर्दोष जितेन्द्र यादव को बर्बरतापूर्वक गोली मारकर घायल कर दिया था, तब से जितेन्द्र यादव शय्याग्रस्त हैं और उनकी आर्थिक स्थिति भी बिगड़ गई है।

शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चा उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा की गई इस कायरतापूर्ण एवं बर्बरतापूर्ण हिंसा की कठोर निंदा करता है।

उन्होंने कहा कि चूंकि यह कुकृत्य पुलिस द्वारा किया गया है इस कारण पीड़ित परिवार पर समझौते के लिए दबाव बनाया जा रहा है एवं आरोपियों के विरुद्ध पुलिस की कार्यवाही में हीलाहवाली बरती जा रही है।

श्री यादव ने कहा इसके अतिरिक्त यह भी ज्ञात हुआ है कि पीड़ित परिवार की सरकार द्वारा कोई भी आर्थिक मदद नहीं की गई है, जबकि इसी प्रकार के अन्य मामलों में सरकार द्वारा पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद एवं परिवार के सदस्यों को सरकारी नौकरी दी गई है।

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा ने सरकार से आग्रह किया है कि मामले की उच्च स्तरीय एजेंसी द्वारा जांच कराई जाए जिससे पीड़ित परिवार को न्याय मिल सके एवं जाति-धर्म के आधार पर दोहरा मापदंड न अपनाते हुए पीड़ित परिवार को कम से कम एक करोड़ की आर्थिक सहायता एवं सरकारी नौकरी तुरन्त दी जाए।

श्री यादव ने बताया कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चा की ओर से पीड़ित परिवार को एक लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जा रही है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।