ताजमहल में नमाज़ पढ़ने को सर्वोच्च न्यायालय की “ना”, कहा- यह दुनिया के सात अजूबों में से एक

सर्वोच्च न्यायालय ने ताजमहल में नमाज पढ़ने की इजाजत देने से इंकार कर दिया है। सबसे बड़ी अदालत ने कहा है कि ताजमहल दुनिया के सात अजूबों में से एक है।...

ताजमहल में नमाज पढ़ने को सर्वोच्च न्यायालय की ना कहा- यह दुनिया के सात अजूबों में से एक

नई दिल्ली, 09 जुलाई। सर्वोच्च न्यायालय ने ताजमहल में नमाज पढ़ने की इजाजत देने से इंकार कर दिया है। सबसे बड़ी अदालत ने कहा है कि ताजमहल दुनिया के सात अजूबों में से एक है।

समाचार एजेंसी एएनआई के ट्वीट के मुताबिक सर्वोच्च न्यायालय ने ताजमहल में नमाज़ पढ़ने की इजाजत नहीं दी है। सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि यह ऐतिहासिक ताजमहल दुनिया के सात अजूबों में से एक है, इसलिए यह ध्यान में रखें कि यहां नमाज अता नहीं की जा सकती।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।