गंभीर मानसिक विकार वाले लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए डब्ल्यूएचओ ने जारी किए नए दिशानिर्देश

गंभीर मानसिक विकार वाले लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए डब्ल्यूएचओ ने जारी किए नए दिशानिर्देश...

गंभीर मानसिक विकार वाले लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए डब्ल्यूएचओ ने जारी किए नए दिशानिर्देश

Guidelines on management of physical health conditions in adults with severe mental disorders

नई दिल्ली, 7 नवंबर 2018 - गंभीर अवसाद (severe depression), द्विध्रुवीय विकार (bipolar disorder) और साइज़ोफ्रेनिया ( psychotic disorders) जैसे मनोवैज्ञानिक विकार सहित गंभीर मानसिक विकार (mental disorders) वाले लोग आम तौर पर आम जनसंख्या की तुलना में 10-20 साल पहले मर जाते हैं। इनमें से अधिकांश समयपूर्व मौतें शारीरिक स्वास्थ्य की स्थिति के कारण हैं। गंभीर मानसिक सेवाओं तक पहुंच गंभीर मानसिक विकार वाले अधिकांश लोगों के लिए पहुंच से बाहर हैं।

इस असमानता को हल करने में मदद के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने गंभीर मानसिक विकार वाले वयस्कों में शारीरिक परिस्थितियों के प्रबंधन पर पहली बार साक्ष्य आधारित दिशानिर्देश जारी किए हैं।

निवारक शारीरिक स्वास्थ्य परिस्थितियां (Preventable physical health conditions) गंभीर मानसिक विकार वाले लोगों में समयपूर्व मृत्यु दर को बढ़ाती हैं, जिससे उनके जीवन काल में 10-20 साल तक कमी आती है।

गंभीर मानसिक विकार वाले लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य की न केवल स्वयं उनके द्वारा बल्कि उनके नजदीकियों द्वारा व स्वास्थ्य प्रणालियों द्वारा भी अनदेखी की जाती है।, जिसके परिणामस्वरूप ऐसे लोगों में महत्वपूर्ण शारीरिक स्वास्थ्य असमानताएं उत्पन्न हो जाती हैं। गंभीर मानसिक विकार वाले लोगों को समय पर उचित उपचार देकर कई लोगों को बचाया जा सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NATIONAL MENTAL HEALTH SURVEY 2015-16) में कहा गया कि हर छठे भारतीय को मानसिक स्वास्थ्य सहायता की आवश्यकता होती है।

सर्वेक्षण के मुताबिक कर्नाटक में 8% लोगों को मानसिक बीमारी है।

30 से 49 वर्ष के आयु समूह और 60 वर्ष से ऊपर के लोगों में और खासकर जो कम आमदनी वाले थे, मानसिक विकारों से ज्यादा प्रभावित हैं।

खास बात यह है कि शहरी क्षेत्रों में मानसिक बीमारी से सबसे ज्यादा लोग प्रभावित हैं।

यदि आप इस गाइडलाइन का पीडीएफ चाहते हैं तो हमें news.hastakshep(at)gmail.com पर लिखें, आपको गाइडलाइन मेल कर दी जाएगी।

पूरी खबर इस लिंक पर पढ़ें – http://www.hastakshep.com/englishnews/new-who-guidelines-to-improve-the-physical-health-of-people-with-severe-mental-d-19352

ख़बरें और भी हैं।

बहुत अधिक चंचल और शरारती बच्चे अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) का शिकार हो सकते हैं

भारतीय सभ्यता में पागलपन डर या भय नहीं, उम्मीद पैदा करता है

क्या आप जानते हैं, हर छठे भारतीय को है मानसिक स्वास्थ्य सहायता की आवश्यकता

डिप्रेशन/ अवसाद : हर साल आत्महत्या करके मर जाते हैं करीब 800000 लोग

दस बच्चों में से नौ जहरीली हवा में सांस ले रहे हैं

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Related Topics -

WHO guidelines to improve the physical health, mental disorders, Mental health, Mental health evidence and research (MER), गंभीर मानसिक विकार,  severe mental disorders, Preventable physical health conditions,

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>