किसानों को मिला यशवंत सिन्हा का साथ, भाजपा सरकार परेशान

यशवंत सिन्हा ने उठाया किसानों का मुद्दा... पुलिस ने यशवंत सिन्हा को हिरासत में लिया... अकोला में किसानों के साथ कर रहे थे प्रदर्शन......

देशबन्धु

यशवंत सिन्हा ने उठाया किसानों का मुद्दा

पुलिस ने यशवंत सिन्हा को हिरासत में लिया

अकोला में किसानों के साथ कर रहे थे प्रदर्शन

जीएसटी और नोटबंदी पर मोदी सरकार को घेरने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवन्त सिन्हा अब किसानों के मुद्दे पर भी सरकार को आड़े हाथों लेने लगे हैं। यशवन्त सिन्हा ने महाराष्ट्र में फडणवीस सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए अकोला में धरना ही दे डाला...और सरकार को किसान विरोधी बताया...लेकिन जैसे ही वो सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे...वैसे ही पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया…

दरअसल बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा महाराष्ट्र के अकोला में कपास और सोयाबीन पैदा करने वाले किसानों के हित के लिए प्रदर्शन कर रहे थे।  सिन्हा ने जिला कलेक्टर के कार्यालय के बाहर किसानों के प्रति सरकार की बेरुखी पर आवाज उठाई।

यशवंत सिन्हा ने अपनी ही सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि... सरकार विदर्भ के किसानों पर ध्यान नहीं दे रही है। . इसीलिए मजबूरन आज सड़क पर उतरना पड़ा है…

सरकार पर किसानों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा कि...बीजेपी किसानों से किए अपने वादे भूल चुकी है....जैसे फौजी बॉर्डर पर सर्जिकल स्ट्राइक करते हैं, ठीक वैसे ही किसानों को भी सरकार के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक करनी चाहिए ताकि उन्हें न्याय मिल सके।

यशवन्त सिन्हा ने जैसे ही सैंकड़ों किसानों के साथ मिलकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरु की... वैसे ही पुलिस वहां पहुंच गई...और यशवन्त सिन्हा समेत करीब 250 किसानों को गिरफ्तार कर लिया।

इस गिरफ्तारी के बाद सीनियर पुलिस अधिकारी ने मीडिया को बताया कि...उन्हें कुछ देर बाद छोड़ा जा रहा था, लेकिन वह नहीं गए।

पुलिस के मुताबिक, सिन्हा फर्जी कपास की कंपनियों के खिलाफ FIR दर्ज करने की मांग कर रहे थे जबकि सरकार पहले ही ऐसी छह कंपनियों के खिलाफ FIR दर्ज कर चुकी है।

एक ओर पुलिस इस प्रदर्शन को बेवजह बता रही है... तो यशवन्त सिन्हा ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि... हम मुख्यालय के ग्राउंड में 5 घंटे से बैठाकर रखे गए। . ठिठुरती ठंड से हम परेशान थे... लेकिन पुलिस ने हमारी बात नहीं सुनी और ठंड में ही बैठाए रखा।

 

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।