बैंक कर्मचारियों ने आधार पर शीर्ष अदालत के फैसले का किया स्वागत, कहा आधार कार्ड जारी करना बंद करें बैंक

एआईबीईए ने बैंक खातों से आधार कार्ड को जोड़ने की अनिवार्यता निरस्त करने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि बैंकों को आधार कार्ड जारी करना बंद कर देना चाहिए क्योंकि यह कोई बैंकिंग गतिविधि नहीं है...

बैंक कर्मचारियों ने आधार पर शीर्ष अदालत के फैसले का किया स्वागत, कहा आधार कार्ड जारी करना बंद करें बैंक

चेन्नई, 26 सितम्बर। आधार पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए बैंक कर्मचारियों ने मांग की है कि बैंक आधार कार्ड जारी करना बंद करें।

बैंक कर्मचारियों के सबसे बड़े संगठन ऑल इंडिया बैंक एम्प्लॉयज़ एसोसिएशन (एआईबीईए) के महासचिव सी.एच. वेंकटचलम ने बैंक खातों से आधार कार्ड को जोड़ने की अनिवार्यता निरस्त करने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि बैंकों को आधार कार्ड जारी करना बंद कर देना चाहिए क्योंकि यह कोई बैंकिंग गतिविधि नहीं है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वेंकटचलम ने कहा,

"सर्वोच्च न्यायालय का बैंक खातों से आधार कार्ड को जोड़ने की अनिवार्यता को असंवैधानिक करार देने के फैसले का स्वागत है।"

वेंकटचलम ने कहा,

"जहां तक बैंकों की बात है, आधार कार्ड खाता खोलने के लिए पेश किए जाने वाले तमाम अन्य पहचान पत्रों की तरह का ही एक पहचान पत्र मात्र है।"

उन्होंने कहा, "आधार को बैंक खाते से अनिवार्य रूप से जोड़ने के परिणामस्वरूप तीसरे पक्ष द्वारा धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए, जो ऋण लेते थे। ऐसे कई उदाहरण हैं, जहां बैंकों के लोन कराने वाले एजेंट अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए एक आधार कार्ड नंबर से कई ऋण खाते खोले थे।"

 

उन्होंने कहा कि कई बैंक शाखाएं आधार कार्ड जारी करती हैं, जिसे रोका जाना चाहिए क्योंकि यह किसी प्रकार से बैंकिंग गतिविधि से जुड़ा नहीं है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।