चाईना का मोबाइल, अंबानी का सिम, यही है भाजपा का असली राष्ट्रवाद - कांग्रेस

मोबाइल खरीदी शराब बिक्री के कमीशन से चुनाव लड़ने जा रही भाजपा सरकार...

चाईना का मोबाइल, अंबानी का सिम, यही है भाजपा का असली राष्ट्रवाद - कांग्रेस

अभिनेत्री कंगना रनौत की जगह स्थानीय प्रादेशिक कलाकारों को महत्व क्यों नहीं ?

मोबाइल खरीदी शराब बिक्री के कमीशन से चुनाव लड़ने जा रही भाजपा सरकार

क्षेत्रों में कनेक्टिविटी की सुविधा नहीं लेकिन भाजपा चुनावी लाभ पाने स्मार्टफोन वितरित करने को बेचैन - कांग्रेस

रायपुर/28 जुलाई 2018। छत्तीसगढ़ सरकार की स्काई योजना के तहत कॉलेजों के छात्रों को 30 जुलाई को स्मार्टफोन वितरण किए जाने राजधानी रायपुर के इंडोर स्टेडियम में कार्यक्रम की तैयारी की जा रही है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा कि भाजपा रमन सरकार मोबाइल वितरण की जल्दबाजी और वाहवाही लूटने को इतने बेताब है कि उन्हें किसानों, मजदूरों, युवाओं, महिलाओं, बेरोजगारों का दर्द दिखाई नहीं दे रहा है। वहीं दूसरी ओर स्मार्टफोन के वितरण के लिए बॉलीवुड की फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को बुलाया जा रहा है।

अभिनेत्री कंगना रनौत की जगह स्थानीय प्रादेशिक कलाकारों को महत्व क्यों नहीं? प्रदेश में किसान आत्महत्या कर रहे हैं और यह सरकार उत्सव तिहार मना, उनके जले पर नमक छिड़कने का कार्य रही है।

तिवारी ने कहा है कि भाजपा का यह कैसा राष्ट्रवाद मोबाइल चाइना मेड, सिम अम्बानी मेड, आखिर सरकार में शामिल लोगों की प्राथमिकता शासकीय उपक्रमो को बढ़ावा देना होता है, देश की सबसे बड़ी संचार सेवा भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के सिम को क्यों नहीं वितरित किया जा रहा है, जिससे प्रदेश में पुराने बीएसएनएल के उपभोक्ताओं को नये टॉवर लगने से वर्तमान में हो रही परेशानियों से समाधान भी मिल पाता। उन्होंने कहा दरअसल भारतीय जनता पार्टी व्यापारिक सोच की पार्टी है, आमजन, देशहित इनकी प्राथमिकता नही और जब भाजपा से देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिओ सिम का प्रमोशन करते हो तो रमन सिंह कैसे पीछे हो सकते हैं?

कांग्रेस नेता ने कहा कि छत्तीसगढ़ इन्फोटिक सोसायटी चिप्स ने संचार क्रांति के तहत 55 लाख से ज्यादा स्मार्ट फोन बांटने की तैयारी की है किंतु सच्चाई यह है कि समूचे ग्रामीण क्षेत्रों में कनेक्टिविटी की सुविधा नहीं है जबकि प्रदेश की आधी आबादी ही बमुश्किल इस योजना से लाभांवित हों सकेंगी। साथ में यह भी दावा किया जा रहा है कि बाजार दर से 30 प्रतिशत एवं 45 प्रतिशत कम दर पर संचार क्रांति योजना के लिए क्रियान्वयन एजेंसी चिप्स द्वारा मोबाइल की खरीदी की जा रही, जो कि सरासर झूठे तथ्य है।

शराबबंदी की बात कर सरकार स्वयं शराब बेचने लगी

श्रीव तिवारी ने कहा कि शराब की बेतहाशा कमाई से सरकार की नीयत बदल गई और शराब बंद करना छोड़ प्रथम नियमावली में अनेकों बदलाव कर शराब को परोसने का नया-नया जरिया इख्तियार किया जा रहा है, पिछले मात्र 8 माह में 24 अरब की शराब की बिक्री सरकार के कुशल प्रबंधन का नतीजा है, जो कमीशन की मोटी रकम को दर्शाता है। भाजपा रमन सिंह जनता को चुना लगा मोटी कमीशनखोरी से प्राप्त रुपयों के दम पर आगामी चुनाव लड़ने जा रहे हैं।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।