हिंदी और अंग्रेजी के विद्यार्थियों के बीच डिजिटल डिवाइड को कम करता यूट्यूब पर दृष्टि आईएएस का 'करेंट बुलेटिन' 

हिंदी और अंग्रेजी के विद्यार्थियों के बीच डिजिटल डिवाइड को कम करता यूट्यूब पर दृष्टि आईएएस का 'करेंट बुलेटिन' ...

एजेंसी

हिंदी और अंग्रेजी के विद्यार्थियों के बीच डिजिटल डिवाइड को कम करता यूट्यूब पर दृष्टि आईएएस का 'करेंट बुलेटिन' 

नई दिल्ली, August 27, 2018 (PRNewswire)

हिन्दी माध्यम से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के लिये क्लासरूम कोचिंग एवं दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रम के ज़रिये उच्चस्तरीय सामग्री उपलब्ध करवाने के सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए दृष्टि आईएएस संस्थान ने डिजिटल इनिशिएटिव के तहत अपने यू-ट्यूब चैनल के द्वारा भारत के हर कोने तक पहुँचने की अपनी प्रतिबद्धता को एक नई दिशा दी है।

एक विज्ञप्ति के मुताबिक दृष्टि संस्थान के यू-ट्यूब चैनल 'दृष्टि आईएएस' के माध्यम से न केवल समसामयिक विषयों पर आधारित कार्यक्रम बल्कि हिन्दी माध्यम के विद्यार्थियों के लिये विषय आधारित कार्यक्रम भी प्रतिदिन अपलोड किए जाते हैं। परीक्षा रणनीतिसे संबंधित कार्यक्रम हो या आईएएस परीक्षा में सफलता की सीढ़ी चढ़ चुके विद्यार्थियों से मुलाकात या चयनित विद्यार्थियों के मॉक साक्षात्कार, दृष्टि के सभी कार्यक्रम लाखों की संख्या में देखे एवं पसंद किये जाते हैं।

विज्ञप्ति के मुताबिक प्रत्येक वीडियो पर आने वाले सैकड़ों कमेंट्स इस बात का प्रमाण हैं कि ये सभी कार्यक्रम विद्यार्थियों एवं आम दर्शकों के बीच बेहद लोकप्रिय हैं। मध्य प्रदेश के रहने वाले लाल सिंह कमेंट बॉक्स में लिखते हैं, 'प्रत्येक सप्ताह की सभी महत्वपूर्ण खबरों का सटीक, तथ्यात्मक और विश्लेषणात्मक सारांश उपलब्ध कराना एक सराहनीय प्रयास है।'  करेंट न्यूज़ बूलेटिन के कमेंट बॉक्स में प्रिया तिवारी लिखती हैं, 'बहुत ही उपयोगी और मार्गदर्शक तथा अत्यंत आकर्षक प्रस्तुति।'

फ़िलहाल, दृष्टि आईएएस चैनल के 7 लाख से अधिक सब्सक्राइबर्स हैं।

विज्ञप्ति के मुताबिक डिजिटलीकरण के प्रयासों में गुणवत्ता पर केन्द्रित रहना ही दृष्टि संस्थान को बाकियों से अलग करता है। रिकॉर्डिंग और प्रसारण दोनों ही स्तरों पर दृष्टि आईएएस यू-ट्यूब चैनल के वीडियो, दर्शकों के बीच अपनी एक खास पहचान बना चुके हैं। यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं कि, बात चाहे प्रस्तुतिकरण की हो, ऑडियो-वीडियो की विशिष्टता की या कंटेंट की उत्कृष्टता की, वर्तमान समय में दृष्टि का कोई सानी नहीं है।

विज्ञप्ति के मुताबिक दृष्टि आईएएस चैनल के माध्यम से सिविल सेवा तथा अन्य प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों को सही एवं सटीक जानकारी प्राप्त हो, इसलिये हाल ही में 'करेंट न्यूज़ बुलेटिन'  कार्यक्रम के प्रसारण की शुरूआत की गई है। 'करेंट न्यूज़ बुलेटिन' का प्रारूप पारंपरिक तरीके का ही है ताकि यह व्यापक स्तर पर विद्यार्थियों को अपील कर सके और यह पूरी तरह से एक समाचार कार्यक्रम जैसा प्रतीत हो।

विज्ञप्ति के मुताबिक इस कार्यक्रम की ख़ासियत यह है कि इसका कंटेंट तैयार करने वाली टीम यूपीएससी सिविल सेवा के लिए हर विषय की सभी प्रासंगिक और नवीनतम जानकारियों का विश्लेषण करके सबसे अहम और सार्थक मुद्दों का ही चयन करती है।

विज्ञप्ति के मुताबिक 'करेंट न्यूज़ बुलेटिन' कार्यक्रम विद्यार्थियों के लिये समय की बचत करने वाला और रिविज़न में सहायक साधन है। आज की दुनिया में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के दौर में किसी भी परीक्षार्थी के लिये ज़रूरी है कि वह सदैव  स्फूर्त तथा  तत्पर रहे। ऐसे में दृष्टि आईएएस के ऑडियो-वीडियो कार्यक्रम विद्यार्थियों के लिये एक वरदान की तरह हैं, क्योंकि इन्हें मेट्रों में सफ़र करते हुए, कतार में इंतज़ार करते हुए या घर में, कहीं भी देखा और सुना जा सकता है। इसके लिए आपको चाहिए तो सिर्फ एक अदद इंटरनेट सुविधा वाला मोबाइल फोन।

दृष्टि संस्थान के सीओओ श्री अजय कराकोटी के अनुसार, "आज के समय में सिविल सेवा एवं अन्य प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी का दायरा किताबों से आगे बढ़कर डिजिटल प्लेटफॉर्म तक पहुँच चुका है। ऐसे में आपके हाथ में मौजूद मोबाइल फ़ोन के ज़रिये आप हर-पल तैयारी से जुड़े रह सकते हैं। दृष्टि संस्थान के यू-ट्यूब चैनल पर  'दृष्टि आईएएस' के करेंट न्यूज़ बुलेटिन, ऑडियो आर्टिकल्स, टू द पॉइंट, आंसर राइटिंग, स्ट्रैटजी जैसे कई कार्यक्रम विद्यार्थियों की तैयारी में बहुत मददगार साबित हो रहे हैं। यह कार्यक्रम महीनों लंबी चलने वाली तैयारी में आपका मार्गदर्शक भी है और दोस्त भी...और इससे जुड़ना बहुत ही आसान है। यू-ट्यूब पर दृष्टि आईएएस टाइप करें और सब्सक्राइब बटन पर क्लिक करके हमेशा के लिये हमसे जुड़ जाएँ"।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।