भाजपा की उड़ी खिल्ली, सोशल मीडिया बना गले की हड्डी

जिस सोशल मीडिया का सहारा लेकर लोगों को झूठे सपने दिखाकर भाजपा ने सत्ता हासिल की थी, अब वही सोशल मीडिया भाजपा के गले की हड्डी बन गया है। ...

हाइलाइट्स

शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखा गया कि 'खोदा तुम्हारे लिए और गिरे हम' यह अवस्था भाजपा ने सोशल मीडिया पर खुद की कर ली है। जिस सोशल मीडिया का सहारा लेकर लोगों को झूठे सपने दिखाकर भाजपा ने सत्ता हासिल की थी, अब वही सोशल मीडिया भाजपा के गले की हड्डी बन गया है।

डीबी लाइव

सोशल मीडिया को भाजपा ने कांग्रेस के खिलाफ खूब इस्तेमाल किया, लेकिन अब वही सोशल मीडिया मोदी सरकार के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है। जहां पहले पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मौन रहने पर मजाक बना करता था वहीं अब प्रधानमंत्री मोदी के जुमलों की खूब खिल्लियां उड़ रही हैं। इसी को लेकर अब मोदी सरकार सोशल मीडिया पर अंकुश लगाने की तैयारी कर रही है। मोदी सरकार के इस एक्शन पर कटाक्ष करते हुए शिवसेना ने भाजपा पर जमकर हमला बोला है।

शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखा गया कि 'खोदा तुम्हारे लिए और गिरे हम' यह अवस्था भाजपा ने सोशल मीडिया पर खुद की कर ली है। जिस सोशल मीडिया का सहारा लेकर लोगों को झूठे सपने दिखाकर भाजपा ने सत्ता हासिल की थी, अब वही सोशल मीडिया भाजपा के गले की हड्डी बन गया है। भाजपा ने विरोधियों की बदनामी, अवमानना और दुष्प्रचार के लिये सोशल मीडिया का खूब इस्तेमाल किया। दूसरी पार्टियों के लिए चोर, डकैत, निकम्मा और गुनाहगार जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर भाजपा ने सोशल मीडिया में जो झूठ फैलाया था वो अभिव्यक्ति की आजादी का आतंकवाद था, उस आतंकवाद का इस्तेमाल कर मोदी और समस्त भाजपा के लोगों ने राष्ट्र और महाराष्ट्र में सत्ता हासिल की, लेकिन सत्ता मिलते ही वचनों की जो धज्जियां उड़ीं उसे लेकर सोशल मीडिया में युवकों ने भाजपा की ही खिल्ली उड़ानी शुरु कर दी है, जिससे वो बेचैन हो गई है और सोशल मीडिया में सत्य उजागर करने वाले युवकों की वो गर्दन दबोचने की कोशिश कर रही है। अब तो ये नौबत आ गई है कि भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह को खुद ये कहना पड़ रहा है कि प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, मुख्यमंत्री का अपमान ना हो और वहां संयम का पालन करना चाहिए, जबकि अपने समय वो खुद मनमोहन सिंह की खिल्ली उड़ाया करते थे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।