न करें रात्रि पाली में काम, हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां

न करें रात्रि पाली में काम, हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां...

एजेंसी

हांगकांग, 27 जनवरी। क्या आप ज्यादातर रात्रि पाली Night shift में काम करते हैं? पर्याप्त नींद की कमी lack of sleep और रात्रि में जागने waking up in the night से मानव डीएनए की संरचना में क्षति damage to the structure of human DNA हो सकती है और इससे कई तरह की बीमारियां घर कर सकती हैं। रात्रि पाली में काम करने से कैंसर cancer, मधुमेह diabetes, हृदय रोग heart disease, श्वास संबंधी एवं तंत्रिका तंत्र संबंधी बीमारियां respiratory and nervous system diseases हो सकती हैं।

Threat to DNA structure due to working in night shift : research

एनस्थेशिया एकेडमिक जर्नल में प्रकाशित शोध के मुताबिक, रात्रि में काम करने वालों में डीएनए मरम्मत करने वाला जीन अपनी गति से काम नहीं कर पाता और नींद की ज्यादा कमी होने पर यह स्थिति और बिगड़ती जाती है।

शोध में पाया गया है कि जो व्यक्ति रात भर काम करते हैं, उनमें डीएनए क्षय का खतरा रात में काम नहीं करने वालों के मुकाबले 30 फीसदी अधिक होता है।

वैसे लोग जो रात में काम करते हैं और पर्याप्त नींद नहीं ले पाते हैं, उनमें डीएनए क्षय का खतरा और 25 फीसदी बढ़ जाता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग के रिसर्च एसोसिएट एस. डब्ल्यू. चोई ने कहा,

"डीएनए खतरा का मतलब डीएनए की मूलभूत संरचना में बदलाव है। यानी डीएनए जब दोबारा बनता है, उसमें मरम्मत नहीं हो पाता है और यह क्षतिग्रस्त डीएनए होता है।"

चोई ने कहा कि जब डीएनए में मरम्मत नहीं हो पाता तो यह खतरनाक स्थिति है और इससे कोशिका की क्षति हो जाती है। मरम्मत नहीं होने की स्थिति में डीएनए की एंड-ज्वाइनिंग नहीं पाती, जिससे ट्यूमर बनने का खतरा रहता है।

शोध में 28 से 33 साल के स्वस्थ डॉक्टरों का रक्त परीक्षण किया गया, जिन्होंने तीन दिन तक पर्याप्त नींद ली थी।

इसके बाद उन डॉक्टरों का रक्त परीक्षण किया गया, जिन्होंने रात्रि में काम किया था, जिन्हें नींद की कमी थी।

चोई ने कहा,

"शोध में यह पाया गया है कि बाधित नींद डीएनए क्षय से जुड़ा हुआ है।"

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

स्वास्थ्य समाचार, हिंदी में स्वास्थ्य समाचार, Health News, Health News in Hindi, health, insomnia, current health articles, apnea, article about health, health news articles, trouble sleeping, नींद, ना,

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।