सचिन की कोच को श्रद्धांजलि - क्रिकेट की एबीसीडी आचरेकर सर से सीखी

भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के कोच रह चुके रमाकांत आचरेकर का बुधवार को यहां 86 वर्ष की उम्र में निधन हो गया।...

एजेंसी
सचिन की कोच को श्रद्धांजलि - क्रिकेट की एबीसीडी आचरेकर सर से सीखी

मुंबई, 2 जनवरी। भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के कोच रह चुके रमाकांत आचरेकर का बुधवार को यहां 86 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। 'क्रिकइंफो' के अनुसार, कोच आचरेकर लंबे समय से बीमार चल रहे थे और 2013 में स्ट्रोक के बाद से वह चलने-फिरने में असमर्थ थे।

schin coach

सचिन ने एक बयान में कहा,

"आचरेकर सर की उपस्थिति से स्वर्ग में भी क्रिकेट समृद्ध होगा। अन्य छात्रों की तरह मैंने भी क्रिकेट की एबीसीडी सर के मार्गदर्शन में ही सीखी। मेरे जीवन में उनके योगदान को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। उन्होंने वह नींव रखी, जिस पर मैं खड़ा हूं।"

 

सचिन ने कहा,

"मैं पिछले महीने सर एवं उनके कुछ छात्रों से मिला और उनके साथ समय बिताया। हमने पुरानी यादें साझा की और बहुत खुश हुए। मुझे आचरेकर सर ने सीधे बल्ले से खेलना और सादा जीवन जीना सिखाया। हमें अपने जीवन से जोड़ने और खेल के गुर सिखाने के लिए धन्यवाद।"

 

मुंबई के शिवाजी पार्क स्थित आचरेकर अकादमी में ही रमाकांत आचरेकर के मार्गदर्शन में सचिन ने क्रिकेट के गुर सीखे। सचिन के अलावा, इस अकादमी से विनोद कांबली, प्रवीण आमरे, अजीत अगरकर और रमेश पोवार जैसे दिग्गज खिलाड़ी भी निकले।

 

कोच आचरेकर ने ही सचिन को 11 साल की उम्र में बांद्रा स्थित न्यू इंग्लिश हाई स्कूल से शारदाश्रम विद्या मंदिर स्कूल में जाने का सुझाव दिया, ताकि वह क्रिकेट को अधिक समय दे पाएं। उन्हें कोचिंग के लिए 1990 में प्रतिष्ठित द्रोणाचार्य पुरस्कार और 2010 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।

 

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने भी आचरेकर के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।