तूतीकोरिन में हुई मौतों की जांच करेगा राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग

13 प्रदर्शनकारियों की पुलिस गोलीबारी में मौत की जांच के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग एक तथ्यान्वेषी समिति तमिलनाडु भेज रहा है।...

तूतीकोरिन में हुई मौतों की जांच करेगा राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग

नई दिल्ली, 29 मई। तमिलनाडु के तूतीकोरिन में 22 मई को स्टरलाइट कॉपर संयंत्र को बंद करने की मांग करने वाले 13 प्रदर्शनकारियों की पुलिस गोलीबारी में मौत की जांच के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग एक तथ्यान्वेषी समिति तमिलनाडु भेज रहा है। आयोग इस बात की जांच करेगा कि प्रदर्शनकारियों की मौत किन परिस्थितियों में हुई थी।

राष्ट्रीय मानवाधिकार की एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई है। एडवोकेट ए. राजाराजन द्वारा 25 मई को दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से जांच कराने की मांग करने के बाद आयोग ने यह कदम उठाया है।

आयोग के महानिदेशक (जांच) को निर्देश दिया गया है कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के स्तर के अधिकारी की अगुआई वाला एक दल गठित किया जाए। दल में उनके सहयोग के लिए पुलिस उपाधीक्षक और निरीक्षक स्तर के तीन अन्य अधिकारी शामिल किए जाएं।

दल मृतकों के परिजनों और प्रत्यक्षदर्शियों के बयान दर्ज करेगा और आयोग को एक रिपोर्ट सौंपेगा।

आयोग ने पाया है कि मामले में इसका तत्कालिक निर्देश इसके द्वारा पहले से ही दिए मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर स्वत: ही तमिलनाडु के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को जांच के निर्देश देने से अलग है।

मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को मामले की विस्तृत रिपोर्ट दो सप्ताह के अंदर सौंपने का निर्देश दिया गया है। इसके साथ ही पुलिस गोलीबारी में घायल हुए लोगों के इलाज की वर्तमान स्थिति पर भी रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया गया है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।