सुषमा के साथ उमा भारती ने मार्गदर्शक मंडल में दावा ठोंका, अगले डेढ़ साल गंगा और राम मंदिर के लिए काम करेंगी, नहीं लड़ेंगी चुनाव

सुषमा के साथ उमा भारती ने मार्गदर्शक मंडल में दावा ठोंका, अगले डेढ़ साल गंगा और राम मंदिर के लिए काम करेंगी, नहीं लड़ेंगी चुनाव...

एजेंसी
सुषमा के साथ उमा भारती ने मार्गदर्शक मंडल में दावा ठोंका, अगले डेढ़ साल गंगा और राम मंदिर के लिए काम करेंगी, नहीं लड़ेंगी चुनाव

उमा भारती अगले डेढ़ साल गंगा और राम मंदिर के लिए काम करेंगी

भोपाल, 4 दिसंबर। केंद्रीय मंत्री उमा भारती अगले डेढ़ साल सिर्फ गंगा की अविरलता-निर्मलता और राम मंदिर के लिए काम करेंगी, इसलिए अगला यानी वर्ष 2019 का चुनाव नहीं लड़ेंगी।

यहां संवाददाताओं से चर्चा करते हुए उमा भारती ने कहा,

"अगले डेढ़ साल मैं गंगा और राम मंदिर के लिए काम करने के अलावा कुछ भी नहीं करूंगी।"

उन्होंने कहा,

"वर्ष 2016 में भी वह अपने अभियान को आगे बढ़ाना चाहती थीं, लेकिन उस समय पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि आप इस्तीफा मत देना, पार्टी फैसला करेगी। इसलिए चाहती हूं कि पार्टी ही इस संदर्भ में फैसला करे, मगर अब डेढ़ साल तक गंगा और राम के अलावा कुछ नहीं करूंगी।"

उमा भारती वर्तमान में उत्तर प्रदेश के झांसी-ललितपुर संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं। इससे पहले मध्यप्रदेश की मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। इस समय केंद्रीय मंत्री हैं। उमा भारती ने चुनाव न लड़ने का निर्णय लिया है। इससे पहले मध्यप्रदेश के विदिशा संसदीय क्षेत्र से सांसद और केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज चुनाव न लड़ने का ऐलान कर चुकी हैं। इन निर्णयों से अब पार्टी के अंदरखाने कई सवाल उठ रहे हैं।

उमा भारती ने दावा किया कि मध्यप्रदेश में चौथी बार शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में सरकार बनेगी। ईवीएम से छेड़छाड़ का आरोप लगाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग पहले ही सभी राजनीतिक दलों को छेड़छाड़ कर बताने की चुनौती दे चुका है।

उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश और देश में घूमते समय उनके सामने एक बात आई है कि प्रदेश को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जरूरत है, इसलिए दोनों को दो-तीन बार और अपने पद पर रहना चाहिए।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।