उमर खालिद पर जानलेवा हमले के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार, मोदी-शाह पर रिहाई मंच ने उठाए सवाल

स्वतंत्रता दिवस पर पाँच आतंकी घुसने का एलर्ट जारी करने वाली एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने हमला किया है....

उमर खालिद पर जानलेवा हमले के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार, मोदी-शाह पर रिहाई मंच ने उठाए सवाल

एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने किया हमला

स्वतंत्रता दिवस पर पाँच आतंकी घुसने का एलर्ट जारी करने वाली एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने हमला किया है.

लखनऊ 13 अगस्त 2018. रिहाई मंच ने राजधानी दिल्ली में उमर खालिद पर हुए जानलेवा हमले के लिए भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए मोदी और शाह पर सवाल उठाए हैं. मंच ने घटना को आतंकी घटना करार देते हुए मांग की कि घटना कारित करने वालों का जिन संगठनों से सम्बन्ध है उनपर पाबन्दी लगाई जाए. गौरी लंकेश, कलबुर्गी, पानसरे, दाभोलकर की हत्या के लिए जिम्मेदार सनातन संस्था को जांच के दायरे में लाते हुए तत्काल पाबन्दी लगाई जाए.

रिहाई मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने कहा कि फर्जी मुठभेड़ों के आरोपों वाली मोदी-शाह की जोड़ी के राज में अब दिनदहाड़े हत्यारे गोली चला रहे हैं. उमर को देशद्रोही घोषित करने वाले भाजपा नेता इस हमले के लिए जिम्मेदार हैं.

उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता दिवस पर पाँच आतंकी घुसने का एलर्ट जारी करने वाली एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने हमला किया है. हाफिज सईद के फर्जी ट्वीट पर प्रतिक्रया देने वाले गृह मंत्री राजनाथ सिंह बताएं कि संघ गिरोह के किन गुर्गों ने संसद से दो सौ मीटर की दूरी पर ये हमला किया, उनकी सुरक्षा-ख़ुफ़िया एजेंसियां कहाँ आराम फरमा रहीं थी. जब दिल्ली पुलिस की मौजूदगी में संविधान जलाया जा रहा है तो क्या ऐसे में देश की संसद और स्वतंत्रता दिवस पर देश सुरक्षित है.

मुहम्मद शुऐब ने कहा कि कर्नल पुरोहित, प्रज्ञा ठाकुर जैसों को रिहा इसीलिए करवाया गया कि वो इस तरह की घटनाओं को अंजाम दें. आतंकी घटना को अंजाम देने की फ़िराक वाले सनातन संस्था के लोगों की गिरफ्तारी और उमर पर ये हमला साफ करता है कि तिरंगा यात्रा के नाम पर कासगंज में दंगा करवाने वाले देश में साम्प्रदायिक-आतंकी घटना करने की फ़िराक में हैं.

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।