36 किलो गांजा और पांच महिलाओं के साथ पकड़ा गया विहिप नेता, संघ बना रहा है लोगों को नशेड़ी - रिहाई मंच

रिहाई मंच नेता ने कहा कि संघ परिवार के सदस्य भोले-भाले हिंदू परिवारों को भारतीय संस्कृति और देशभक्ति के नाम पर प्रवचन देकर भाजपा को वोट देने के लिए बरगलाते हैं और खुद गांजा और अफीम की तस्करी करते हैं।...

हाइलाइट्स
  • गांजा तस्करी मामले में आरएसएस और विहिप नेताओं को जांच के दायरे में लाया जाए- रिहाई मंच
  • पुलिस अगर गांजा तस्कर विहिप नेता रामाशीष राय का नारको टेस्ट कराए तो पकड़े जाएंगे और भी संघी- मंजूर आलम
  • आम हिंदुओं को संघ परिवार से चौकन्ना रहने की जरूरत, संघ बना रहा है लोगों को नशेड़ी- राजशेखर रवि

बलिया 19 मई 2017। रिहाई मंच ने बलिया स्टेशन से 36 किलो गांजा के साथ पकड़े गए विश्व हिंदू परिषद मऊ के पूर्व जिलाध्यक्ष रामाशीष राय के मामले में संघ परिवार और उसके दूसरे आनुषांगिक संगठनों को भी जांच के दायरे में लाने की मांग की है।

मंच ने कहा है कि संघ परिवार के नेता केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार बनने के बाद से ही ड्रग्स सप्लाई और दूसरे अनैतिक कामों में सक्रिय हो गए हैं।

रिहाई मंच द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में बलिया इकाई के सचिव मंजूर आलम ने कहा कि राष्ट्रवाद और भारतीय संस्कृति का नारा जपने वाले संघ परिवार और विश्व हिंदू परिषद के नेता का गांजा की तस्करी में धरा जाना संघ परिवार के असली चरित्र को उजागर करता है।

उन्होंने मांग की है कि बलिया समेत पूरे पूर्वांचल में संघ परिवार और उसके विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल जैसे आनुषांगिक संगठनों के नेताओं और कार्यालयों पर छापा मार कर इन्हें जांच के दायरे में लाया जाए।

उन्होंने दावा किया कि रामाशीष राय का अगर पुलिस नारको टेस्ट कराए तो संघ परिवार से जुड़े नशे के तस्करों का पूरा गिरोह पकड़ा जा सकता है बशर्ते कि पुलिस इच्छाशक्ति दिखाए।

रिहाई मंच नेता राज शेखर रवि और डॉ. ओवैस असगर ने कहा कि संघ परिवार के सदस्य भोले-भाले हिंदू परिवारों को भारतीय संस्कृति और देशभक्ति के नाम पर प्रवचन देकर भाजपा को वोट देने के लिए बरगलाते हैं और खुद गांजा और अफीम की तस्करी करते हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि संघ परिवार और उसका पूरा तस्कर नेटवर्क गरीब परिवारों के बेरोजगार युवकों को नशे का आदि बना कर उनका मुसलमानों के खिलाफ हिंसा में इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने कहा कि इस घटना के बाद आम हिंदू परिवारों को संघ परिवार के कार्यकर्ताओं से चौकन्ना रहने की जरूरत है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।