काश, मोदी जी स्वतंत्रता दिवस पर अपने आखिरी भाषण में सच्चाई बोल पाते

काश, मोदी जी अपने भाषण में सच्चाई बोल पाते। मन की बात नहीं कर पाते, कम से कम देश के काम की बात तो कर पाते क्योंकि इस देश में अच्छे दिन आए नहीं, लेकिन देश को सच्चे दिन का इंतजार है। ...

काश, मोदी जी स्वतंत्रता दिवस पर अपने आखिरी भाषण में सच्चाई बोल पाते

नई दिल्ली, 15 अगस्त। स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से दिए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण को कांग्रेस ने ‘खोखला’ करार देते हुए कहा है कि बेहतर होता, अगर मोदी अपने इस ‘आखिरी भाषण’ में राफेल, अर्थव्यवस्था की स्थिति और नफरत के महौल पर सच बोलते।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को राफेल एवं कुछ अन्य मुद्दों पर बहस करने की कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की चुनौती को स्वीकार करना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि,

‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को राफेल पर बहस की चुनौती दी है। हम चाहते हैं कि मोदी जी राहुल गांधी की चुनौती करें। वह राफेल, व्यापम, भ्रष्टाचार, किसान एवं रोजगार, देश में फैली अफरा-तफरी, गिरती अर्थव्यवस्था पर और नफरत के माहौल पर बहस करें।’

खोखला साबित हुआ स्वतंत्रता दिवस का मोदी जी का आखिरी भाषण

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा,

‘स्वतंत्रता दिवस का मोदी जी का आखिरी भाषण खोखला साबित हुआ। प्रधानमंत्री न राफेल पर बोले, न व्यापम पर बोले, न छत्तीसगढ़ के पीडीएस घोटाले पर बोले। देश में नफरत का माहौल फैलाया जा रहा है, उस पर भी वह कुछ नहीं बोले। चीन और पाकिस्तान आंखे दिखा रहे हैं, इस पर वह कुछ नहीं बोले।'

जब मोदी जी जाएंगे सच्चे दिन उस वक्त आएंगे

श्री सुरजेवाला ने कहा,

‘काश, मोदी जी अपने भाषण में सच्चाई बोल पाते। मन की बात नहीं कर पाते, कम से कम देश के काम की बात तो कर पाते क्योंकि इस देश में अच्छे दिन आए नहीं, लेकिन देश को सच्चे दिन का इंतजार है। ये सच्चे दिन उस वक्त आएंगे जब मोदी जी जाएंगे।’

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।