रूसी खुफिया एजेंसी केजीबी के एजेंट रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप ?

तो रूस के सामने बुरी तरह से पिट चुका है अमरीका... कोल्ड वॉर में जीत के दावे की पोल खुल चुकी है।...

रूसी खुफिया एजेंसी केजीबी के एजेंट रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप ?

नई दिल्ली, 16 जुलाई। क्या वर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पूर्व सोवियत संघ की जासूसी संस्था केजीबी के एजेंट रहे हैं ? दरअसल यह सनसनीखेज खुलासा प्रतिष्ठित न्यूयार्क मैगज़ीन के एक लेख में हुआ है।

तो रूस के सामने बुरी तरह से पिट चुका है अमरीका

Jonathan Chait का एक लंबा लेख न्यूयार्क मैगज़ीन में Will Trump Be Meeting With His Counterpart — Or His Handler? A plausible theory of mind-boggling collusion. (विल ट्रंप वी मीटिंग विद पगे काउंटरपार्ट-और हिज़ हैंडलर?  ए प्लॉसिबल थ्योरी ऑफ माइमड बॉगलिंग कॉल्यूज़न) प्रकाशित हुआ है। इस लेख का लिंक फेसबुक पर शेयर करते हुए वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह ने टिप्पणी की -

“न्यूयार्क मैगज़ीन का एक अजीब लेख, जिसमें सनसनीखेज़ खुलासा किया गया है, अभी-अभी मैंने शेयर किया है> उस लेख में संकेत यह दिया गया है कि अमरीका के मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कभी रूसी जासूसी संस्था, केजीबी के लिए काम करते थे। संकेत यह भी है कि यह काम वे 1987 से कर रहे हैं। लेख की हेडलाइन है "Will Trump Be Meeting With His Counterpart — Or His Handler?

A plausible theory of mind-boggling collusion."

बहुत ही भरोसेमंद बच्चे ने मुझे लिंक भेजा और मैंने साइट पर जाकर पढ़ा। कम से कम मैं सन्नाटे में हूँ कि अगर उस लेख में लिखी गयी बातें सच हैं तो अमरीका रूस के सामने बुरी तरह से पिट चुका है। कोल्ड वॉर में जीत के दावे की पोल खुल चुकी है। लेकिन अभी तक तूफ़ान क्यों नहीं खड़ा हुआ जबकि विकिपीडिया ने साफ़ लिखा है कि न्यूयार्क मैगजीन बहुत ही सम्मानित पत्रिका है। जो भी पढ़ना तो ज़रूरी है। करीब आठ हज़ार शब्दों का लेख है। और पत्रिका को नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता है लिंक फिर देखें -

Will Trump Be Meeting With His Counterpart

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।