अमरीका, इराक़ का विभाजन कराना चाहता है : रूस

इराक़ी कुर्दिस्तान में रिफ़्रेंडम के आयोजन के विरोधी हैं किन्तु अमरीका, सीरिया और इराक़ के विभाजन का इच्छुक है इसीलिए गुप्त रूप से वह आतंकवादी गुट दाइश का समर्थन कर रहा है और इसके पुष्ट प्रमाण हैं...

हाइलाइट्स

इराक़ी कुर्दिस्तान में रिफ़्रेंडम के आयोजन के विरोधी हैं किन्तु अमरीका, सीरिया और इराक़ के विभाजन का इच्छुक है इसीलिए गुप्त रूप से वह आतंकवादी गुट दाइश का समर्थन कर रहा है और इस बारे में पुष्ट प्रमाण भी मौजूद हैं।

नई दिल्ली। रूस ने आरोप लगाया है कि अमरीका, इराक़ का विभाजन चाहता है और वह क्षेत्रीय देशों के विरुद्ध साज़िश रच रहा है और इराक़ी कुर्दिस्तान में जनमत संग्रह का आयोजन इन्हीं साज़िशों का भाग है।

http://parstoday.com की एक ख़बर के मुताबिक रूसी जियोपोलेटिकल स्टडीज़ सेन्टर के प्रमुख और रक्षा मंत्रालय के पूर्व अधिकारी इवोशेफ़ ने कहा है कि अमरीका, क्षेत्रीय देशों के विरुद्ध साज़िश रच रहा है और इराक़ी कुर्दिस्तान में जनमत संग्रह का आयोजन इन्हीं साज़िशों का भाग है।

रिपोर्ट के अनुसार रूसी जियोपोलेटिकल स्टडीज़ सेन्टर के प्रमुख और रूस के रक्षामंत्रालय के अंतर्राष्ट्रीय संपर्क विभाग के डायरेक्टर जनरल इवोशेफ़ ने कहा कि अमरीकी राष्ट्रपति जार्ज बुश के काल में बनने वाली ग्रेटर मिडिलईस्ट की योजना जारी है और वाशिंग्टन अपने झूठे दावे के बावजूद जनमत संग्रह के आयोजन का समर्थन करता है।

गुप्त रूप से वह आतंकवादी गुट दाइश का समर्थन कर रहा है अमरीका

इवोशेफ़ का कहना था कि कुछ अमरीकी अधिकारियों ने झूठे दावे किए कि इराक़ी कुर्दिस्तान में रिफ़्रेंडम के आयोजन के विरोधी हैं किन्तु अमरीका, सीरिया और इराक़ के विभाजन का इच्छुक है इसीलिए गुप्त रूप से वह आतंकवादी गुट दाइश का समर्थन कर रहा है और इस बारे में पुष्ट प्रमाण भी मौजूद हैं।

रूस के इस सैन्य अधिकारी का कहना है कि अमरीका खुलकर सीरिया में कुछ सशस्त्र गुटों और आतंकवादी गुटों का समर्थन कर रहा है इसीलिए सीरिया और इराक़ में अमरीकी सैनिकों की उपस्थिति बहुत ख़तरनाक है और उनका लक्ष्य क्षेत्रीय देशों पर क़ब्ज़ा करना है।    

अमरीकी षड्यंत्रों को विफल बनाने के लिए क्षेत्रीय देशों की एकजुटता बहुत ही आवश्यक

सी जियोपोलेटिकल स्टडीज़ सेन्टर के प्रमुख के अनुसार अफ़ग़ानिस्तान, लीबिया और यमन में संकट, अमरीका और उसके घटकों के षड्यंत्रों का परिणाम है और इसीलिए वर्तमान स्थिति में क्षेत्रीय देशों के लिए अमरीकी षड्यंत्रों को विफल बनाने के लिए एकजुटता बहुत ही आवश्यक है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।