फेफड़े रखने हैं स्वस्थ तो खाएं सेब और टमाटर

देशबन्धु
हाइलाइट्स

कमजोर फेफड़ों के कारण मृत्यु की संभावना बढ़ जाती है, जो कि क्रोनिक ऑबस्ट्रक्टिव पलमोनरी डिसीज़ (सीओपीडी), हृदय रोग और फेफड़ों के कैंसर के कारण होती है।

देशबन्धु

धूम्रपान के कारण होने वाले फेफड़ों के नुकसान को लेकर चिंतित हैं? तो फिर धूम्रपान करना छोड़कर रोजाना दो से ज्यादा टमाटर या ताजे फल का सेवन करें, खासतौर से सेबों का। इससे फेफड़ों को हुए नुकसान की भरपाई हो जाती है।

हाल ही के एक शोध से पता चलता है कि जो लोग धूम्रपान छोड़ देते हैं और टमाटर और फलों का ज्यादा सेवन करते हैं, उनमें 10 साल की अवधि में फेफड़ों की कार्यप्रणाली में गिरावट कम होती है।

कमजोर फेफड़ों के कारण मृत्यु की संभावना बढ़ जाती है, जो कि क्रोनिक ऑबस्ट्रक्टिव पलमोनरी डिसीज़ (सीओपीडी), हृदय रोग और फेफड़ों के कैंसर के कारण होती है।

प्रमुख शोधार्थी जॉन हापकिन्स ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ की असिस्टेंट प्रोफेसर वानेशा गारेसिया-लार्सन के मुताबिक,

"इस शोध से पता चलता है कि आहार उन लोगों में फेफड़ों की क्षति की मरम्मत में मदद कर सकता है जिन्होंने धूम्रपान बंद कर दिया है।"

इससे यह भी पता चलता है कि फलों से समृद्ध आहार फेफड़ों की प्राकृतिक बुढ़ापे की प्रक्रिया को धीमा कर सकता है भले ही आप कभी धूम्रपान न करते हों या धूम्रपान करना छोड़ चुके हों।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।