नेपाल के भूकंप से तबाह लड़की को पहुंचाया जीबी रोड, शिकायत पर छुड़ाया गया

दिल्ली पुलिस ने राजधानी के बदनाम इलाके जीबी रोड से दो लड़कियों को छुड़वाया है और इन दोनों लड़कियों की उम्र 16 साल बताई जाती है। दोनों लड़कियां नेपाल की रहने वाली हैं।...

देशबन्धु

नई दिल्ली, 22 जुलाई। दिल्ली पुलिस ने राजधानी के बदनाम इलाके जीबी रोड से दो लड़कियों को छुड़वाया है और इन दोनों लड़कियों की उम्र 16 साल बताई जाती है। दोनों लड़कियां नेपाल की रहने वाली हैं। शुरूआती जांच से पता चला है कि नेपाल में इनकी गुमशुदगी की शिकायत दर्ज है। एक लड़की को दो साल पहले एक लड़का नेपाल से लाकर जीबी रोड पर बेच गया था।

नेपाल में भूकंप की वजह से वहां भुखमरी फैल गई थी तो ये लड़की जीविका की तलाश में भारत आई थीं। जबकि दूसरी लड़की को एक नेपाली महिला चार महीने पहले यहां जीबी रोड पर लाकर बेच गई थी।

दो साल पहले जीबी रोड पर बेची गई लड़की किसी तरह कल वहां से भाग गई और एक आदमी के संपर्क में आ गई और उसने इस लड़की की सूचना स्थानीय एनजीओ को दी। एनजीओ ने दिल्ली महिला आयोग को इस लड़की के बारे में बताया।

दिल्ली महिला आयोग ने लड़की के पास अपनी टीम भेजी फिर इस लड़की ने दूसरी लड़की के बारे में बताया। जिसके बाद आयोग व एनजीओ की टीम ने पुलिस को साथ लेकर दूसरी लड़की को रेस्क्यू कराया। इन दोनों लड़कियों को 56 नंबर कोठे से छुड़वाया गया। लड़कियों ने बताया जीबी रोड पर मारपीट की जाती थी और उन्हें कई-कई दिन भूखा रखा जाता था।

आपबीती बताते हुए बताया कि उन्होंने पुलिस को बताया कि उन्हें जबर्दस्ती 30-30 लोगों के साथ सोने के लिए मजबूर किया जाता था। यदि कोई लड़की ऐसा करने से मना करती थी तो उसके साथ बहुत ज्यादा मारपीट होती थी और उसे कमरे में बंद रखा जाता था। इन लड़कियों का कहना था कि जीबी रोड पर लाने से पहले उन्हें मजनू की टीला पर एक मकान में रखा जाता है और वहां उनके साथ रेप करवाया जाता है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने कहा कि जीबी रोड के 100 मीटर पर पुलिस स्टेशन है और यहां  नाबालिग लड़कियो को बेचा जा रहा है और पुलिस इससे बेखबर रहती है।

उन्होंने कहा कि ये 56 नंबर कोठा उसी आफाक का है जिसने लड़कियों को बेचकर और उनसे जिस्मफरोसी का धंधा कराकर 100 करोड़ की प्रॉपर्टी बनाई थी।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।