ईरान : भूकंप से मरने वालों की संख्या हुई 445, 7370 घायल, 12 हज़ार घर पूरी तरह तबाह, 118 आफ्टरशॉक्स

भूकंप ने देश के पश्चिमी भागों में ऐतिहासिक स्थलों को कुछ नुकसान पहुंचाया, जिनमें मनीज कैसल, याज़डगेड कैसल, क़सर-ए-शिरीन, शाह अब्बासी करवंसराय और चारघापी में खोस्रो ससादीद महल शामिल हैं।...

ईरान के विभिन्न क्षेत्रों में आए भीषण भूकंप और भूकंप से बड़ी संख्या में लोगों के हताहत होने कारण सरकार ने सोमवार की रात एक बयान जारी करके मंगलवार को पूरे देश में आम शोक की घोषणा की है।

इर्ना की रिपोर्ट के अनुसार सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि पश्चिमी ईरान में आए भीषण भूकंप की कटु घटना से जिसमें सैकड़ों ईरानी हताहत और हज़ारों बेघर हो गये, ईरानी जनता दुखी है।

इस बयान में कहा गया है कि सरकार इस घटना पर इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता विशेषकर ईरानी जनता और पीड़ितों से संवेदना प्रकट करती है और घायलों के शीघ्र सही होने की कामना के साथ मंगलवार को पूरे देश में आम शोक की घोषणा करती है।

सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भूकंप पीड़ित क्षेत्रों में मौजूद सहायता कर्मियों, समस्त मंत्रालयों और सरकारी संस्थाओं की यह ज़िम्मेदारी है कि वह पीड़ितों की सहायता करें।

बतादें कि ईरान के विभिन्न क्षेत्रों में आने वाले भीषण भूकंप में अब तक 445 लोगों के हताहत और 7370 लोगों के घायल होने की सूचना है।

स्थानीय सूत्रों का कहना है कि किरमानशाह के 12 हज़ार घर पूरी तरह तबाह हो गये हैं।

मेहर न्यूज़ एजेंसी की खबर में बताया गया है कि किरमानशाह प्रांत के सांस्कृतिक विरासत के महानिदेशक के अनुसार, भूकंप ने देश के पश्चिमी भागों में ऐतिहासिक स्थलों को कुछ नुकसान पहुंचाया, जिनमें मनीज कैसल, याज़डगेड कैसल, क़सर-ए-शिरीन, शाह अब्बासी करवंसराय और चारघापी में खोस्रो ससादीद महल शामिल हैं।

ईरान के भूकंपीय केंद्र के मुताबिक, पिछली रात के भूकंप केबाद 118 आफ्टरशॉक्स ने किर्मानशाह को हिलाकर रख दिया है, जिनमें से 17 आफ्टरशॉक्स को रिक्टर पैमाने पर 4 से 5 के बीच मापा गया था।

ईरानी राष्ट्रपति हसन रोहानी भूकंप-प्रभावित क्षेत्रों में आपातकालीन सहायता और बचाव अभियान का आकलन करने के लिए मंगलवार को किर्मानशाह का दौरा करेंगे। ।

सभी चित्र साभार - http://parstoday.com 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>